71% स्टूडेंट्स ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफॉर्म्स द्वारा सेल्फ-ट्यूटरिंग के साथ सहज हैं: ब्रेनली


मुंबई :
 स्टूडेंट्स और टीचर्स घर से पढ़ाई के लगभग दो शैक्षणिक वर्ष बिताने के बाद ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफॉर्म्स के इस्तेमाल में फायदा देख रहे हैं। ब्रेनली ने घर से पढ़ने की स्थिति में कई महीने बिताने के बाद पढ़ाई के मौजूदा माहौल पर स्टूडेंट्स की भावनाएं समझने के लिये एक सर्वे किया। सर्वे से पता चला है कि 71% स्टूडेंट्स ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफॉर्म्स के माध्यम से होने वाली सेल्फ–ट्यूटरिंग के साथ सहज हैं। इससे स्टूडेंट्स के बीच स्वतंत्र होकर पढ़ाई करने को बढ़ावा देने में ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफॉर्म्स की भूमिका उजागर होती है।

ब्रेनली एक ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफॉर्म है, जिसका इस्तेमाल 350 मिलियन से ज्‍यादा स्टूडेंट्स और पेरेंट्स सवाल पूछने और समझने के लिये करते हैं। इस सर्वे में कुल 1751 जवाब मिले और यह साल 2021 के कई रोचक ट्रेंड्स और साल 2022 के लिये इरादों को सामने लाता है। सर्वे से यह भी पता चला है कि आधे से ज्यादा(56%) स्टूडेंट्स ने लॉकडाउन के दौरान प्राइवेट ट्यूशंस ली थीं। इसलिये पर्सनलाइज्‍ड और वन-ऑन-वन पढ़ाई को पढ़ने की एक प्रभावी विधि माना जाता है।

2022 में टीचिंग के हाइब्रिड मॉडल को जारी रखना चाहते हैं स्टूडेंट्स:

स्टूडेंट्स न केवल ऑनलाइन प्लेटफॉर्म्स के अनुकूल बन गये हैं, बल्कि इस माध्यम में उन्‍होंने विकास भी किया है। यह सर्वे के परिणामों में भी दिखता है, क्योंकि 78% से ज्यादा स्टूडेंट्स ने साल 2021 में अच्छे प्रदर्शन का दावा किया है। पहले के एक सर्वे में इस प्लेटफॉर्म ने पाया था कि 77% स्टूडेंट्स स्कूलों के दोबारा खुलने के बाद भी ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफॉर्म्स की मदद लेना जारी रखेंगे। यह तथ्य इस बात से और मजबूत होता है कि 71% स्टूडेंट्स 2022 में हाइब्रिड मॉडल से पढ़ाई जारी रखना पसंद करेंगे।

स्टूडेंट्स को 2022 में ज्यादा स्कूल खुलने की उम्मीद:

जब पूछा गया कि क्‍या वे 2021 में फिजिकल स्कूलों के दोबारा खुलने की उम्मीद कर रहे थे, तब 85% स्टूडेंट्स ने हामी भरी। भारतीय स्टूडेंट्स कोविड-19 के कारण आए ऑनलाइन लर्निंग मॉड्यूल के अनुकूल बन चुके हैं, लेकिन उनमें से ज्यादातर स्टूडेंट्स अपने सहपाठियों और टीचर्स के साथ प्रत्यक्ष रूप से मिलने के इंतजार में उत्सुक थे।

2021 की दूसरी छमाही में जब स्कूल आंशिक रूप से खोले गये, तब बहुत सारे स्टूडेंट्स फिजिकल स्कूलों में गये। 64% स्टूडेंट्स ने दावा किया कि स्कूल दोबारा खुलने से उनका परफॉर्मेंस प्रभावित हुआ, जबकि 68% स्टूडेंट्स ने 2020 और 2021 के बीच अपने टीचर के पढ़ाने के तरीके में बड़ा बदलाव देखा। इससे पहले के एक ब्रेनली सर्वे में यह भी पाया गया था कि 82% स्टूडेंट्स फिजिकल स्कूलों में वापसी को लेकर रोमांचित थे। भारत में अब 15 साल से ज्यादा उम्र के बच्चों को टीके लगेंगे, तो हो सकता है कि 2022 में ज्यादा स्कूल अपने स्टूडेंट्स के लिये दरवाजे खोलें।

ब्रेनली के चीफ प्रोडक्ट ऑफिसर राजेश बिसानी ने कहा, “स्टूडेंट्स फिजिकल स्कूलों में अपने साथियों और टीचर्स से मिलने के लिये उत्सुक हैं, लेकिन ऑनलाइन पढ़ाई के तरीकों से भी सकारात्‍मक रिश्ता बना चुके हैं। स्टूडेंट्स का शैक्षणिक प्रदर्शन प्रोत्‍साहक ट्रेंड दिखा रहा है और इस सर्वे के परिणाम ब्रेनली के इस विश्वास के अनुसार हैं कि सर्वश्रेष्ठ टेक्नोलॉजी वाले टूल्स और पर्सनलाइज्ड अटेंशन के साथ हाइब्रिड लर्निंग 2022 और उसके आगे भी शिक्षा के परिदृश्य पर हावी रहेगी।”

Comments