Mumbai : सभी धर्मो के लोगों को ये सोचना जरुरी है इंसानियत जिंदा रहेगा तो सब कुछ होगा

" एक सोच देश की एकता और अखंडता के लिए "

दर्गाह में महेंगी चादर के पैसे का इस्तमाल से ठंड से बचेगा और मंदिर में दूध बहाने से अच्छा भूखों को पिला दें तो लोग भुखमरी से बचेंगे


प्रस्तुति : सलीम शेख

मुंबई : मंदिर में दूध बहने से अच्छा किसी व्यक्ति को मिलेगा तो भुख से बचेगा पेट भरेगा चादर ओढ़ने और ठंड से बच्चों को हिम्मत भी मिलेगा पेट ही खाली होगा तो वैसे ही मरजायेंगे चादर से भी कुछ नहीं होगा दुनिया में हर धर्म महान है कोई भी धर्म किसी दूसरे धर्म को गाली देना नहीं सिखाता है और न ही किसी किताब में लिखा है कि हम किसी के धर्म को अपमानित करें इस तरह का गैरजिम्मेदाराना हरकत करने वाले लोग किसी भी धर्म के नहीं होते हैं ।

प्यार मोहब्बत एकता ही तो हमारे देश की पहचान है किसी के बहकावे में न आएं इसे अंधभक्ति और इरशा में रहकर ना देखे इसपर अमल हो नहीं तो भुखमारी के लिस्ट में हम 103 पर है क्या मालुम कल 130 पर आजाये इसलिए जागरूक नागरिक बनिये जागो और जगाओ देश की उम्र  बढ़ाओ।

नेता और पार्टी दोनो ही आती जाती रहेगी इनके अंधभक्ति में अपने देश का भविष्य न बिगाड़े फिर ओ कोई भी हो हिंदू मुस्लिम सिख इसाई बौद्ध नास्तिक जो भी हो उसे सिर्फ और सिर्फ देश हित में ही सोचना है यहीं से सब बदलेगा नहीं तो आने वाले इतिहास में उन लोगो को नहीं बताया जाएगा जिन्के वजह से देश का हाल खराब था, आने वाले समय में इतिहास हमसे सवाल करेगा की तुमने क्या किया ।

दलाली चाटूकारिता और अन्धभक्ति दोगले पन से देश को बचाओ और देश का भविष्य सुधारने में सहयोग दे, देश में अशांति अराजकता फैलाने वाले लोग किसी भी जाति के हो उनका कोई धर्म नहीं होता ऐसे लोगों को उनके मकसद में कामयाब ना होने दे, बाकी आप खुद समाझदार हैं आंखे खोलिए सच देखिये और सच बोलिए सच पर रहिये, हमारा देश और हमारे देश की जनता इतनी सक्छम है कि ओ सब कर सकते हैं।

हमें गर्व है कि ऐसे देश के मट्टी  में जन्म हुआ इस देश के लिए जीना और इस देश के लिए मरना हमारे पुर्खों ने हमें यह देश प्रेम का पाठ पढ़ाया है, धन्य है यह धरती इस धरती को नमन करता हूं और हमारा देश हमेशा तरक्की करे और गुलज़ार रहे ।

आप लोगो से भी करजोड़ अग्राह करता हूं कि अलगाववादी सोच रखने वाले और अंधभक्ति में लीन  लोगो से दूर रहे वाट्सएप यूनिवर्सिटी के छात्र न बने ये इस तरह का कृत देश को तोडने के लिए है।

 जय हिन्द

Comments