समाज कल्याण केंद्र असामाजिक तत्वों के कब्जे में !

शिकायत के बाद माहौल हुआ गरम !

रिपोर्ट : पंकज गुप्ता


मुंबई :
साउथ इंडियन हिन्दू समाज (अन्ना पब्लिक लायब्रेरी) के कल्याण केंद्र को कुछ मौका परस्त असमाजिक तत्वों द्वारा कब्जा किए जाने का मामला अब गरमा गया है।इस मामले को लेकर शिकायत होने पर संबंधित असमाजिक तत्व उक्त केंद्र को दुकानों में परिवर्तित करके किराए पर देकर भूमिगत हो गए हैं।जबकि यह मामला न्यायालय की चौखट पर भी पहुंच गया है।

गोवंडी स्थित प्लॉट नंबर 09/के/04 में साउथ इंडियन हिन्दू समाज (अन्ना पब्लिक रायब्रेरी) का एक समाज कल्याण केंद्र 1978 में बनाया गया था। जिसका उद्घाटन उक्त समय डीएमके पार्टी के मुखिया के हाथों किया गया था।जिसमे एक पार्टी का कार्यालय व एक लाइब्रेरी बनाया गया था। जिसके सारे प्रमाण पत्र उक्त समाज के लोगो के पास आज भी मौजूद है। बताया जाता है कि वर्ष 2005 में मुंबई में आई भीषण बाढ़ में उक्त स्ट्रेक्चर ढह गया था।जिसे बाद में स्थानीय कुछ असामाजिक तत्वों ने कब्जा कर उक्त स्थल पर दुकाने बनाने का काम किए थे। जब इस मामले की जानकारी स्थानीय नगरसेवक को लगी तो उन्होंने मनपा को शिकायत कर उक्त स्ट्रक्चर को तोड़ने की मांग की थी। जिसका रिकार्ड मनपा कार्यालय में आज भी मौजूद है। जब यह मामला न्यायलय में पहुंचा तो उन असमाजिक तत्वों ने फर्जी कागजात पेश कर न्यायालय को भी गुमराह करने का प्रयास किया। लेकिन उच्च न्यायालय ने इस मामले की जांच का आदेश दे दिया। जिसके लिए  कलेक्टर व मनपा को न्यायालय ने सूचित कर अभिप्राय मंगवाने का निर्णय लिया। न्यायालय में सही सबूत पेश ना कर पाने के चलते उन असमाजिक तत्वों को फटकार भी लगाया और पुलिस को उनके खिलाफ मामला दर्ज करने का आदेश दिया था। जिसके बाद शिवाजी नगर पुलिस ने यह मामला अपराध क्रमांक 248/2019 भादवी 420,465,467,471 व 34 के तहत मामला दर्ज कर मामले की जांच शुरू की थी। जिसके बाद खुद को फंसता हुआ देख उक्त सभी असमाजिक तत्व तबसे अब तक भूमिगत हो गए हैं। बताया जाता है आज भी उन लोगो ने उक्त कार्यालय व लायब्रेरी को किराए पर दे दिया है।जबकि यह मामला अब भी न्यायालय में विचाराधीन बताया जाता है। सूत्रों यह भी बताते हैं कि उन्ही लोगो द्वारा प्लॉट 15/एल/09 नायडू महाजना संगम की जगह हड़पने की कोशिश किया था उस मामले में भी पुलिस ने अपराध क्रमांक 663/2020 भादवी 420,467,471 व 34 के तहत दर्ज किया है। इस मामले में वही लोग आरोपी बने थे।जिसकी जांच आज भी शिवाजी नगर पुलिस कर रही है।

Comments