मानखुर्द मंडाला बना ड्रग्स तस्करी करने वालेे असामाजिक तत्त्वों का प्रमुख केंद्र !


मुंबई :
देशभर में नशे का जहर बड़ी मात्रा में बड़ी आसानी से तस्करी हो रहा है। परिणाम स्वरूप देश का एक बड़ा यूवाओं के वर्ग को नशे का आदि बनाकर उनकी जिंदगी तबाह और बर्बाद कर दिया है। परिणाम स्वरूप देश भर में नशेड़ियों युवाओं की बढ़ती संख्या ने केंद्र की मोदी सरकार से लेकर राज्य की विभिन्न सरकारों के लिये चिंता का विषय बना दिया है। जानकारी के अनुसार दिन ब दिन मानखुर्द मंडाला क्षेत्र के विभिन्न इलाकों, मैदान के पास में बढ़ते नशेड़ियों की जनसंख्या के कारण गोवंडी शिवाजीनगर, बगैनवाड़ी, साठे नगर, उमरखाड़ी, पद्मनागर, संजय नगर इंदिरानगर, कामलरामन नगर तोड़ नंबर नंबर 14. बना ड्रग्स तस्करी से लेकर बेचने वालों का प्रमुख केंद्र बन चुका है। जिससे अब सवाल उठने लगे है आखिर पोलिस की इतनी मुस्तैदी के बाद भी आखिर कैसे ड्रग्स पैडलर नशे का जहर बेचने वाले आसमजिक तत्वो के पास नशीला पदार्थो की आपूर्ति हो रही है। इतना ही नहीं नशे का जहर बगैर कानून का डर के कैसे खुले आम मुंबई की झोपड़पट्टी बाहुल क्षेत्रों के युवाओं को बड़ी आसानी से खरीदने मिल रहा है। ऐसे सवालों के कारण क्षेत्र के लोकल पोलिस स्टेशन के अधिकारियों को कटघरे में लाकर खड़ा कर दिया है।

गौरतलब हो कि आज अगर नशे से ग्रस्त राज्यों में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, गुजरात, उत्तर प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र सबसे अधिक प्रभावित है युवाओं में नशे के जहर के आदि हो चले है। उल्लेखनीय तौर, पर देश की आर्थिक राजधानी कही जाने वाली मुंबई महानगर भी इससे अछूते नही रह गई है।

मुंबई नारकोटिक्स सेल के पोलिस अधिकारियों द्वारा रोजाना कहीं न कहीं छापे मारी कर के नशे के जहर की ड्रग्स तस्करी करने वालो को गिरफ्तार कर करवाई कर रही है। परंतु रहिवासिय क्षेत्रों को 100 प्रतिशत नशे का जहर बेचने वाले असामाजिक तत्वों गुंडे प्रवृत्ति के लोगो के चुंगल से मुक्त करने में अभी तक पूरी तरह से कामयाबी नहीं मिल पा रही है एंटी नारकोटिक्स सेल के अधिकारियों को, उसका मुख्य कारण है की जिस पोलिस स्टेशन के जद में एंटी नारकोटिक्स सेल के अधिकारी करवाई करते है। वहां के पोलिस अधिकारियों को इसकी भनक भी नहीं लगती। सामाज के बुद्धजीवी वर्ग के अनुसार ऐसा भला कैसे हो सकता है कि अगर किसी पोलिस स्टेशन के हद में कोई अनैतिक कार्य नशे का जहर बिकता है उस पोलिस स्टेशन के अधिकारियों को इसकी जानकारी न हो। पुलिस विभाग में बढ़ता भ्रष्टाचार इसके लिये पूरी तरह से जिम्मेदार है। जिसकी ढिलाई समाज के युवाओं को नशे का आदि बनाकर खोखला कर रही है।

Comments