ठाकरे सरकार @@@@ है.. भाजपा कार्यकर्ताओं ने जमकर लगाए मुंबइ की सड़कों पर नारे

भ्रष्ट राज्य की उद्धव सरकार के खिलाफ भाजपाइयों ने खोला मोर्चा

सत्ताधारी सरकार के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे जांच से बचने के लिये होम आइसोलेशन का सहारा

मुंबई : सचिन वाज़े प्रकरण दिन ब दिन नये तथ्यों को उजागर कर रहा है। एक के बाद एक प्रकरण में छुपे किरदार बाहर आ रहे है। पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह द्वारा राज्य के गृह मंत्री अनिल देश मुख द्वारा सचिन वाज़े पर मुंबई के विभिन्न ठिकानों पर स्थित बारों होटल सहित अन्य स्थानों से 100 करोड़ वसूली का टारगेट दिया था, ऐसा आरोप लगते ही राज्य की राजनीति में भूचाल आ गया है । राज्य की विरोधी विपक्षी पार्टी भाजपा उग्र रूप धारण करते हुए सत्ताधारी सरकार के विरोध में मोर्चा खोल दिया । जिससे मुंबई की सड़कों पर उतरकर राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख को तत्काल पद से हटाकर कड़ी करवाई करने की मांग भाजपा के आंदोलन कर रहे पार्टी कार्यकर्ताओं ने किया है।


इसके साथ ही भाजपाई कार्यकर्ताओं राज्य की महाविकास आघाडी सरकार व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे चोर है कि नारे लगाये। वहीं राजनीतिक गलियारों में इस बात की चर्चा जोर पकड़ते नजर आई कि सत्ताधारी सरकार के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे जांच से बचने के लिये होम आइसोलेशन का सहारा ले लिया है । जिससे अब 15 से 20 दिनों ताक न कोई जांच एजेंसी, मीडिया मुख्यमंत्री से वाज़े प्रकरण सहित पूर्व पोलिस आयुक्त परमबीर सिंह द्वारा राज्य सरकार के ग्रह मंत्री अनिल देशमुख के मुंबई पुलिस सीएयू यूनिट के चीफ सचिन वाज़े से 100 करोड़ रुपए का हफ्ता उगाही करने के लिये कहा था।

उपरोक्त प्रचंड आंदोलन में भाजपाइयों ने जेल भरो आंदोलन किया। जिसमे भारतीय जनता पार्टी मुंबई प्रदेश की ओर से स्वामीनारायन मंदिर, दादर (पूर्व) स्थित रास्ता रोको आंदोलन करने के बाद आंदोलन परिवर्तित होकर जेल भरो आंदोलन हो गया । जिसमें मुंबई अध्यक्ष विधायक मंगल प्रभात लोढा, अतुल भातखळकर, पराग शाह, सुनिल राणे, पराग आळवणी, योगेश सागर सहित सुभाष मराठे को पोलिस ने गिरफ्तार किया ।

Comments