ठगबाज गायक का बड़ा खुलासा, एक साथ कई कार्यक्रमों का सट्टा लेने वाला माँ को भी नहीं बख्सा!

मुंबई : पिछले एक महीने से लगातार मेरा नाम भदोही जिले में सोशल मीडिया के माध्यम से चर्चा का विषय बना हुआ था कारण सिर्फ एक कि मेरे माध्यम से नवंबर महीने में होने वाले एक भागवत कथा जिसका आयोजन अयोध्या के बस्ती जिले में मेरे मित्र पंडित अतुल शास्त्री एवं कथा वाचक कौशलेन्द्र कृष्ण शास्त्री ज्योतिषाचार्य जी के द्वारा हुआ था। जिसमे भदोही के गायक मेरे बड़े भाई जिला द्विवेदी जी को उन्होंने भजन संध्या के कार्यक्रम हेतु आमंत्रित किया था। भदोही से अयोध्या जाकर 3 दिनों तक कार्यक्रम संपन्न करने के पश्चात वे अपनी माता जी के बीमारी का झूठा बहाना बनाकर वहाँ से लौट आये और उसके ठीक दूसरे दिन उनके सुनिश्चित जौनपुर जिले में होने वाले पूर्व नियोजित तिलकोत्सव का कार्यक्रम ज्यादा पैसों में संपन्न किया।

भदोही सहित पूर्वांचल वासियों से एक सवाल की क्या पैसे के आगे किसी व्यक्ति का कोई आत्म सम्मान नहीं होता? जिसके घर पर दस दिवसीय श्रीमद्भागवत कथा का आयोजन चल रहा हो क्या उस कार्यक्रम को कुछ ज्यादा पैसों के लालच में छोड़कर आना एक कलाकार के लिए उचित था? प्राप्त जानकारी के अनुसार आयोजक मंडल ने इनके द्वारा किये गए 4 दिनों के कार्यक्रम का उचित धन देकर इन्हें वहाँ से सम्मान सहित विदा किया था। परन्तु लगातार जिला द्विवेदी जी द्वारा सोशल मीडिया पर एक संत पर इनके व इनके सहयोगीयों द्वारा फेसबुक, व्हाट्सएप्प पोस्ट कर अपशब्दों का प्रयोग कर रहे हैं जो कि किसी धार्मिक भावना को आहत करने जैसा महापाप है।

मैं भदोही के जन मानस से आग्रह करूंगा कि आप सभी फेसबुक पर वायरल वीडियो को अंत तक देखें और दोनों पक्षों की बात सुनें ताकि आपको भी समाज मे रहने वाले ऐसे लोगों की सच्चाई का पता चले जो कि पैसों के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं। इस पोस्ट पर आप सभी एक न्यायिक कमेंट जरूर करें… जल्द ही मिलेंगे कार्यक्रम के भाग – 2 में कुछ और तथ्यों के साथ।

मैं पूरे प्रोग्राम का साक्षीदार हूँ। अपने आप को प्रसिद्ध गायक मनोज तिवारी जी से बड़ा गायक बताने वाला, चंद रुपयों के लिए माँ को अधमरा बताकर पूर्वनियोजित तिलकोत्सव के सट्टा में नाचने, गाने के लिए श्रीमद्भागवत जैसे महान धार्मिक अनुष्ठान को बीच में छोड़कर जाने वाला भदोही का अपने आप को महान लोकगायक बताने वाला जिला द्विवेदी एक नम्बर का धोखेबाज है। जो अपनी माँ का सगा नहीं उससे यही अपेक्षा की जा सकती है। एक सच्चे ईमानदार दोस्त सुशील को भी नहीं बख्शा। कथावाचक कौशलेन्द्र शास्त्री जी व पंडित अतुल शास्त्री जी को अपना गुरु मानने वाले जिला ने फेसबुक पर पोस्ट कर झूठा आरोप लगाकर अपशब्दों का प्रयोग किया। उनके फ़ेसबुकिया मित्रों ने बिना जाने समझे गंदी गंदी गालियां दी। यह बहुत बड़ा मानहानि किया है एक प्रतिष्ठित आचार्य का। जिला पूरे ब्राह्मण समाज के लिए कलंक है। इनके ऊपर मानहानि का दावा अवश्य करना होगा। सभी फेसबुक मित्रों से अनुरोध है कि बिना सच्चाई जाने किसी के बारे में गलत शब्दों का इस्तेमाल न करें। जब सच्चाई आप सभी के समझ है तो ऐसे गायक का बहिष्कार करें।

Comments
Popular posts
Mumbai : ‘काव्य सलिल’ काव्य संग्रह का विश्व पर्यावरण दिवस पर विमोचन और सम्मान पत्र वितरण समारोह आयोजित
Image
Mumbai : महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमिटी पर्यावरण विभाग के प्रदेश उपाध्यक्ष साहेब अली शेख, मुंबई अल्पसंख्यक अध्यक्ष व नगर सेवक हाजी बब्बू खान, दक्षिणमध्य जिलाध्यक्ष हुकुमराज मेहता ने किया वृक्षारोपण
Image
New Delhi :पर्यावरण संरक्षण महत्व व हमारा अस्तित्व पर 'एम वी फाउंडेशन' द्वारा विराट कवि सम्मेलन का आयोजन
Image
मानव पशु के संघर्ष पर आधारित फिल्म 'शेरनी' मेरे दिल के करीब है – विद्या बालन
Image
पावस ऋतु के स्वागत में ‘काव्य सृजन’ की ‘मराठी काव्य’ गोष्ठी
Image