क्या कहता है पर्सनल फाइनेंस के लिए बजट?

मुंबई : आर्थिक रिवाइवल और ग्रोथ को बढ़ावा देने के लिए बहुप्रतीक्षित बजट 2021 ने बढ़-चढ़कर घोषणाएं की हैं। यह जानना बेहद जरूरी है कि इसका किसी के पर्सनल फाइनेंस के लिए क्या मतलब है। एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के इक्विटी स्ट्रैटेजिस्ट-डीवीपी ज्योति रॉय बताते हैं कि पर्सनल फाइनेंस पर कोई भी बात करने के लिए इन्वेस्टमेंट, टैक्सेशन और खपत (खरीद / खर्च) इन तीन व्यापक क्षेत्रों पर ध्यान देने की आवश्यकता है।

इन्वेस्टमेंट्स

बैंक डिपॉजिट्स : यदि आप चिंतित हैं कि बैंक में गड़बड़ी होती है और वह दिवालिया होने की स्थिति में आता है और आपकी बैंक जमा राशि अटक सकती है, तो अच्छी खबर है। पिछले साल डिपॉजिट इंश्योरेंस को एक लाख रुपए से बढ़ाकर 5 लाख रुपए किया गया था। यह सिर्फ बैंक लाइसेंस के रद्द होने पर मिल सकते थे। अब बैंकों के ग्राहक जिनके खाते सील कर दिए गए हैं, वे भी बैंकों के दिवालिया घोषित होने से पहले ही इस तरह के दावे कर सकेंगे।

यूलिप्स : नए यूनिट-लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान (यूलिप) की परिपक्वता पर कोई कर छूट नहीं होगी यदि वार्षिक प्रीमियम 2.5 लाख रुपए से अधिक है और यह 1 फरवरी, 2021 के बाद खरीदे गए यूलिप पर लागू होगी। इसका मतलब है कि यदि आप टैक्स-फ्री मैच्योरिटी इनकम के लिए केवल यूलिप में निवेश करने की योजना बना रहे हैं तो अब आप ऐसा नहीं कर सकेंगे। टैक्स-फ्री मैच्योरिटी खत्म करने के साथ, यूलिप ने अब म्यूचुअल फंड के साथ कर समानता प्राप्त कर ली है।

भविष्य निधि : बजटीय घोषणा के अनुसार भविष्य निधि में 2.5 लाख रुपए से अधिक के निवेश पर रिटर्न टैक्सेबल होगा। अब तक, स्वैच्छिक पीएफ या ईपीएफ में किसी भी आकार के निवेश पर रिटर्न मैच्योरिटी टैक्स फ्री थी।

इन्वेस्टमेंट चार्टर : वित्तमंत्री ने गुमराह करने वाले फाइनेंशियल प्रोडक्ट्स पर अंकुश लगाने के लिए इन्वेस्टमेंट चार्टर तैयार करने का प्रस्ताव रखा है, जिस पर सभी की नजर होगी। यह आपके निवेश को सुरक्षित रखेगा और शिकायतों को प्रभावी ढंग से दूर करने में मदद कर सकता है।

सोना और चांदी : सोने या चांदी में निवेश करने की योजना है? वे सस्ते हैं क्योंकि कस्टम ड्यूटी 12.5 फीसदी से घटाकर 7.5 फीसदी कर दी गई है। हालांकि सरकार ने गोल्ड, सिल्वर और डोर बार पर 2.5% का एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर एंड डेवलपमेंट सेस (एआईडीसी) लगाया है। शुद्ध आधार पर सोने और चांदी के आयात पर कुल शुल्क में 2.5% की कमी आएगी।

जीरो कूपन बांड : रिटेल निवेशकों के पास जीरो कूपन बांड के रूप में एक और निवेश साधन हो सकता है जो टैक्स-एफिशियंट भी हैं। इन बांड्स की टैक्स एफिशियंसी का विवरण अभी तक स्पष्ट नहीं है, लेकिन यह एक विकल्प है जो भविष्य में निवेशकों के पास हो सकता है। जीरो कूपन बॉन्ड वे हैं जो बॉन्डहोल्डर्स को ब्याज नहीं देते हैं; इसके बजाय बांड धारक को बांड के अंकित मूल्य पर छूट मिलती है।

टैक्सेशन : इस बजट ने आपके आयकर स्लैब या दरों में कोई बदलाव नहीं किया है। तो, आप या तो पुराने कर शासन या पिछले साल घोषित नई और वैकल्पिक व्यवस्था के साथ आगे बढ़ सकते हैं। 75 वर्ष से अधिक आयु के वरिष्ठ नागरिकों की आय अगर पेंशन या जमा पर ब्याज से आती है तो उन्हें अपना आईटी रिटर्न दाखिल नहीं करना होगा।

इसके अलावा, आपको असेसमेंट वर्ष 2021-22 (वित्त वर्ष 2020-21) के लिए अपने आईटी रिटर्न दाखिल करते समय समयसीमा का पालन करना होगा। संशोधित या विलंबित रिटर्न अब केवल 31 दिसंबर, 2021 तक दर्ज हो सकेगा और इस प्रक्रिया को 31 मार्च, 2022 तक पूरा नहीं कर सकेंगे। वर्तमान में, वित्त वर्ष 2019-2020 के लिए संशोधित या विलंबित रिटर्न 31 मार्च, 2021 को या असेसमेंट पूरे होने पर दाखिल किया जा सकता है, जो भी पहले हो।

रियल एस्टेट इन्वेस्टमेंट ट्रस्ट्स और इंफ्रास्ट्रक्चर इनवेस्टमेंट ट्रस्ट्स से आपको मिलने वाला कोई भी डिविडेंड सोर्स (टीडीएस) पर टैक्स छूट से छूट देता है। इसके अलावा, लाभांश आय के लिए अग्रिम कर भुगतान केवल तभी देय हो सकता है जब लाभांश की घोषणा या भुगतान कंपनी ने कर दिया हो। यह आपको ब्याज भुगतान बचाने में मदद करेगा।

यदि आप टैक्स-भुगतान करने वालों में से एक थे, जिन्होंने कोविड-19 संबंधित संकट के कारण अपनी नौकरी खो दी और उन्हें गिग्स या फ्रीलांसिंग का सहारा लेना पड़ा, तो सामाजिक सुरक्षा लाभ के रूप में अच्छी खबर है। इन लाभों को अब प्लेटफ़ॉर्म या गिग वर्कर्स के लिए बढ़ाया जाएगा, जो अब ईएसआई और ईपीएफ स्कीम्स और न्यूनतम मजदूरी नियमों के तहत कवर किए जाएंगे।

अफोर्डेबल होम लोन पर अतिरिक्त कर लाभ प्राप्त करने का अधिक समय: यदि आप एक अफोर्डेबल घर खरीदने की योजना बनाते हैं, तो आप आईटी अधिनियम की धारा 80ईईए के तहत दिए गए ब्याज पर 1.5 लाख रुपये तक का अतिरिक्त कर लाभ प्राप्त कर सकेंगे। इसके अलावा आप होम लोन पर ब्याज के रूप में चुकाए 2 लाख रुपए की भी छूट हासिल कर सकते हैं। ऐसे ऋणों पर कटौती का लाभ उठाने का समय 31 मार्च, 2022 तक बढ़ाया गया है। एक किफायती घर को आवासीय संपत्ति के रूप में परिभाषित किया गया है, जिसका फ्लोर एरिया बेंगलुरु, चेन्नई, दिल्ली एनसीआर, हैदराबाद, कोलकाता और मुंबई (MMR) जैसे मेट्रो शहरों में 645 वर्ग फुट से अधिक नहीं है। अन्य शहरों या शहरों के लिए, फ्लोर एरिया 968 वर्ग फीट से अधिक नहीं होना चाहिए।

क्या महंगा है ; क्या सस्ता है : निवेश और कराधान के अलावा, कुछ खरीद के लिए आवंटन करने से आपके व्यक्तिगत वित्त और बजट का एक महत्वपूर्ण पहलू बनता है। इस साल के बजट का मतलब है कि मोबाइल फोन, उपभोक्ता टिकाऊ वस्तुएं जैसे रेफ्रिजरेटर, एसी और आयातित खिलौने महंगे मिलते हैं जबकि धातु और स्टेनलेस स्टील उत्पाद सस्ते हो सकते हैं।

बजट ने उच्च प्रीमियम यूलिप निवेशकों और उच्च पीएफ योगदानकर्ताओं पर कर लगाया है और यह सुनिश्चित किया है कि औसत निवेशक की रक्षा करने का संतुलन बनाया है।

Comments