नशेडियों के कब्जे में मुंबइ के गार्डन, जॉगिंग करने आने वाली महिलाओ की सुरक्षा राम भरोसे

मुंबई : देश की आर्थिक राजधानी मुंबई की सार्वजनिक जगहों में से एक गार्डनों पर नशेडियों का कब्जा होने से जॉगिंग करने आने वाली महिलाओं की सुरक्षा को लेकर रामभरोसे हो गये है। गार्डन में आने वाली घरेलू महिलाओं को नशेडियों से डर सताने लगा है, पुलिस प्रशासन पर आरोप लगाते हुए कहती है कि क्या आपराधिक वारदातों का इंतजार कर रही है पुलिस।

वहीं एम/पूर्व विभाग के अंतर्गत आने वाले 11 गार्डन है। शिवाजीनगर-मानखुर्द विधानसभा क्षेत्र में आते है गार्डन। इन  गार्डनों में असामजिक तत्वो का आतंक व्याप्त है। सुबह से लेकर शाम तक नाशा करते हुए जमावड़ा लगाये रहते है।उल्लेखनीय तौर पर जॉगिंग करने आने वाली घरेलू महिलाये अपने परिवार के साथ आकर जॉगिंग करते है, खुले वातावरण में अपने बच्चों के साथ बैठकर गप्पे मारती है। महिलाओं की सुरक्षा को लेकर अब सवाल उत्पन्न हो गया है। सपनों के शहर में जितनी तेजी से नशे का माहौल तैयार हुआ है उतनी ही तेजी से नशे की हालत में अपराधियों, असामाजिक तत्व अपराधों को अंजाम देने से पहले विचार किये बिना ही कर देते है। जिससे सेंसेक्स की तर्ज पर मुंबई में अपराध बढ़े है।

मुंबई प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक विभाग के सचिव हुसैन खान ने राज्य के गृहमंत्री अनिल देशमुख, मुंबई पुलिस आयुक्त, अतिरिक्त पुलिस आयुक्त कानून व्यवस्था विश्ववास नागरे पाटिल से मांग कर रहवासिय इलाकों के गार्डनों को क्लीन आप मुहिम चलाकर नशेडियों के कब्जे से गार्डनों को मुक्त करवाये, आपराधिक वारदातों का इंतिजार न करे। दूसरी और मनपा आयुक्त इक़बाल सिंह चहल से एक शस्त्र धारक सुरक्षा रक्षक मुंबई के गार्डन जैसी सार्वजनिक जगहों पर नियुक्ति करे।

हुसैन खान ने मांग किया है कि मनपा प्रशसान जिन सामाजिक संस्थाओं को गार्डन चलाने को दिये प्रशासन से सालाना 20 लाख रुपए लेकर गार्डनों की देखभाल करें, पब्लिक प्लेस होने के कारण सीसीटीवी कैमरे लगाये ताकि भविष्य में होने वाली कोई वारदात को रोका जा सके।

Comments