5 कारण डिजिटल ब्रोकर के चुनाव करने के

मुंबई : भारत में डिजिटल को स्वीकार करने की अभूतपूर्व दर का सीधा असर प्रतिभूतियों और विनिमय उद्योग पर पड़ा है। और यह होगा क्यों नहीं? सेंसेक्स और निफ्टी जैसे बेंचमार्क सूचकांकों ने पिछले 4 वर्षों में लगभग 50% का रिटर्न दिया है। ‘मेक इन इंडिया’ और ‘आत्मनिर्भर भारत’ जैसी पहलों से समर्थित भारतीय बाजार निरंतर गति दिखा रहे हैं और अधिक से अधिक रिटेल निवेशक इसका लाभ उठाना चाहते हैं।

इसलिए, यदि आप एक ऐसे निवेशक हैं जो स्टॉक निवेश की दुनिया में प्रवेश करने के लिए तैयार हैं, तो यहां एंजल ब्रोकिंग के सीएमओ श्री प्रभाकर तिवारी ने पांच कारण बताए हैं कि आपको डिजिटल ब्रोकर को क्यों अपनाना चाहिए।

1. ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म: डिजिटल ब्रोकर चुनने का सबसे बड़ा कारण यह है कि वे आपको ट्रेडिंग के लिए एक सहज ज्ञान युक्त प्लेटफॉर्म प्रदान करते हैं। एक ऑफ़लाइन ब्रोकर आपको स्टॉक की सिफारिशें दे सकता है। हालांकि, आपको उन शेयरों में निवेश करने से पहले अपने स्वयं का रिसर्च करना कठिन होगा। तो, आपको या तो सतह विश्लेषण के साथ खुद को संतुष्ट करना होगा या अपने ब्रोकर पर पूरी तरह से भरोसा करना होगा। यह दृष्टिकोण आगे स्पीड की चुनौती खड़ी करता है, जिससे ट्रेड खरीद और बिक्री दोनों में नॉन-ऑप्टिमल कीमतों की ओर बढ़ता है।

जब आप डिजिटल ब्रोकर की सेवाएं लेते हैं तो ये सभी समस्याएं तुरंत हल हो जाती हैं। ऐसे ब्रोकर आम तौर पर एडवांस चार्टिंग फीचर, बाज़ार स्कैनर और मोबाइल ट्रेडिंग एप्लिकेशन प्रदान करते हैं। ये फेक्टर डिजिटल ब्रोकर को निवेशक के लिए अनमोल बनाते हैं। चेक करें कि क्या उसके किसी भी ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म पर ब्रोकर द्वारा कोई शुल्क लिया गया है।

2. ट्रेडिंग की लागत: डिजिटल ब्रोकरों पर विचार करने के लिए एक और महत्वपूर्ण कारक है ट्रेडिंग की लागत। व्यापारिक लागत में ब्रोकरेज और लेन-देन शुल्क से लेकर एएमसी, डीमैट शुल्क और कर शामिल हैं। अब, दो तरीके हैं जिनके द्वारा ट्रेडिंग लागत की गणना की जाती है। उनमें से सबसे लोकप्रिय है प्रतिशत-आधारित ब्रोकरेज, जिसमें आपको ओवर ट्रेड वैल्यू का पहले से निर्धारित प्रतिशत (जबकि खरीद और बिक्री दोनों) का भुगतान करना होता है। ऑफलाइन ब्रोकर - और कुछ डिजिटल ब्रोकर्स - प्रतिशत आधारित ब्रोकरेज का उपयोग करते हैं जो निवेशकों के लिए कम आकर्षक साबित होता है।

हालांकि, अग्रणी डिजिटल ब्रोकर फ्लैट, फिक्स्ड ब्रोकरेज चार्ज करते हैं, जिसमें अपने समग्र मूल्य के बावजूद ट्रेड ऑर्डर पर फ्लैट शुल्क लिया जाता है। कुछ डिजिटल ब्रोकरों के पास इक्विटी डिलीवरी के लिए जीरो ब्रोकरेज चार्ज भी है। इस तरह के कारक आपकी समग्र आय में एक बड़ा अंतर रखते हैं।

3. रिसर्च क्षमताएं: आज के डिजिटल युग में, डेटा नया ऑयल और गोल्ड है। यह शेयर बाजारों में और अधिक कारगर है क्योंकि यहां स्टॉक की कीमतें व्यापक डेटा पर निर्भर करती हैं - जिनमें फाइनेंशियल, मार्केट परफॉर्मंस, तिमाही परिणाम, प्रमोटर शेयरहोल्डिंग पैटर्न, रेगुलेटर उपाय, जियोपॉलिटिकल घटनाक्रम, निवेशक सेंटीमेंट, और इसी तरह के कई फेक्टर अपना महत्व दिखाते हैं। चूंकि, टेक्नोलॉजी डिजिटल ब्रोकर्स का सबसे महत्वपूर्ण क्षेत्र है, इसलिए वे आमतौर पर एडवांस रिसर्च क्षमताओं से लैस होते हैं। कुछ अत्याधुनिक डिजिटल ब्रोकरों ने भी निवेश इंजन विकसित किए हैं जो सिफारिश करने से पहले 1 बिलियन से अधिक डेटा बिंदुओं का विश्लेषण करते हैं। क्या एक ऑफ़लाइन ब्रोकर से ऐसा करने की कल्पना कर सकते हैं।

4. मार्जिन का लाभ: मार्जिन ट्रेडिंग एक ऐसी चीज है जो आपको अपने मूल निवेश की तुलना में बहुत अधिक व्यापार करने में सक्षम बनाती है। यह ज्यादातर ट्रेडर्स द्वारा उपयोग की जाने वाली सुविधा है और आपके समग्र मुनाफे में एक बड़ा अंतर लाती है। हालांकि, यदि आप स्टॉक ट्रेडिंग में नए हैं, तो आपको पहले मार्जिन ट्रेडिंग के जोखिम को समझना होगा। अगर चीजें गड़बड़ हो जाती हैं, तो आप अपने सभी निवेशों को खो सकते हैं। यह एक ऐसी सुविधा है जिसका उपयोग संबद्ध जोखिमों को समझते हुए केवल एक अनुभवी व्यापारी द्वारा किया जाना चाहिए।

5. कस्टमर सर्विस: अंतिम पर सबसे महत्वपूर्ण, डिजिटल ब्रोकर आपको अपने टच-ऑफ-द-बटन अनुभवों के भीतर लिपटे सर्वोत्तम सेवाओं की पेशकश करते हैं। उनमें से कुछ में ऑनलाइन कस्टमर केयर प्रतिनिधि, रिलेशन मैनेजर, और 24x7 कस्टमर हेल्पलाइन नंबर शामिल हैं। वैल्यू-ड्रिवन ब्रोकर्स ने अपने निवेशकों के लिए रिसर्च सामग्री को और अधिक क्यूरेट किया और पर्सनलाइज्ड एडवायजरी जारी की है। आपको वेबिनार, पॉडकास्ट, और अन्य प्रासंगिक ग्राहक केंद्रित पहल जैसी सेवाओं के लिए भी तत्पर रहना चाहिए।

सकारात्मक व्यापारिक दृष्टिकोण के साथ भारत में रिटेल इन्वेस्टर्स की लगातार बढ़ती भागीदारी के साथ, यह कहा जा सकता है कि भारतीय बाजारों ने अभी सिर्फ शुरुआत की है। जनवरी 1999 और जनवरी 2009 के बीच उनकी संख्या लगभग तीन गुना बढ़ी थी, पर अगले 10 वर्षों में वे लगभग चार गुना बढ़ गए। कल्पना कीजिए कि वे अब से 10 साल कहाँ होंगे। समझदारी से निवेश करें।

Comments