निगम प्रशासन की एक जिद है और यह जानबूझकर विकास कार्यों को कमजोर कर रहा है : महापौर सतीश कुलकर्णी

रिपोर्ट : प्रमोद कुमार

नाशिक : नाशिक मनपा ने सिटी सेंटर मॉल और त्रिमूर्ति चौक  पर फ्लाईओवर  और 250 करोड़ रुपये की लागत से प्रस्तावित किया है। इन कार्यों के लिए निविदाएं भी प्रकाशित की गई हैं, लेकिन नाशिक महासभा के प्रस्ताव क्रमांक 298 दिनांक 15/09/2020 के अनुसार, नाशिक शहर के सभी 31 वार्डों के 127 नगरसेवकों के कार्यों को नाशिक नगर आयुक्त के बजट में शामिल किया गया है। उन्होंने प्रस्ताव क्रमांक 298 में कार्यों का सुझाव दिया था। महापौर सतीश कुलकर्णी  ने कहा कि इन कार्यों के कार्यान्वयन के बारे में हमने समय-समय पर प्रशासन के साथ मिलकर काम किया है। प्रशासन ने सूचित किया है कि सदस्यों द्वारा सुझाए गए कार्य के कारण वर्तमान निगम की आय कम हो गई है, इसलिए कार्य नहीं किया जा सकता है। महापौर सतीश कुलकर्णी ने कहा है कि यह निगम प्रशासन की एक जिद है और यह जानबूझकर विकास कार्यों को कमजोर कर रहा है। साथ ही इन कार्यों के लिए नगरसेवकों की मांग लगातार बढ़ रही है और नागरिक भी सवाल कर रहे हैं। फ्लाईओवर के लिए दोनों निविदाओं के तत्काल निलंबन के संबंध में आयुक्त को 19/01/2021 को एक पत्र भेजा गया और महासभा संकल्प सं. 340 डी.टी. 20/10/2020 के तहत फ्लाईओवर के लिए 250 करोड़ रुपये का प्रावधान नगरसेवकों के विकास कार्यों के लिए तुरंत किया गया है और महासभा के प्रस्ताव क्रमांक 298 में सभी सदस्यों द्वारा सुझाए गए कार्य तैयार किए गए हैं।

स्थायी समिति के अनुमोदन के बाद ही दोनों पुलों का काम महासभा के प्रस्ताव क्रमांक 340 में दिनांक 20/10/2020 के अनुसार फिर से शुरू किया जाना चाहिए। इसके अलावा 200 करोड़ रुपये जो स्मार्ट सिटी के तहत मनपा का हिस्सा है, अभी भी खर्च नहीं किए गए हैं। इसमें से 100 करोड महापौर सतीश कुलकर्णी ने नगरसेवकों को विकास कार्यों के लिए रखने के आयुक्त को निर्देश दिया है। 250 करोड रुपये कर्ज निकालने के लिए शासन से प्रयत्न करना होगा एैसी सूचना महापौर ने आयुक्त को दी है।
Attachments area
Comments