नियमों को ताक में रखकर संचालित हो रहे है मुंबई के अस्पताल

किसी भी वक़्त घटित हो सकती है एम/पूर्व पश्चिम के नर्सिंग होमो में भंडारा की पुनरावृत्ति, मौत की कब्रगाह में  बदल सकते है

रिपोर्ट : यशपाल शर्मा 

मुबई : भंडारा अस्पताल के मैटरनिटी वार्ड में घटित हुई भयानक अग्निकांड में 10 शिशुओं की मौत ने जहां एक और पूरे देश को झकझोर कर रख दिया था। वहीं मुंबई महानगर के सरकारी से लेकर निजी अस्पतालों में नियमों को ताक पर रखकर संचालित किया जा रहा है। बताया जाता है कि मुंबई महानगर पालिका के विभिन्न 24 वार्डो में 1130 अस्पतालों के समावेश है। कहा जाता है कि जो मनपा वार्ड के स्वस्थ अधिकारियों के संरक्षण में धड़ल्ले से चल रहे है। उल्लेखनीय तौर पर मुंबई के 24 वार्डो में से एक एम/पूर्व-पश्चिम के वार्ड में भी बड़े पैमाने पर नियमों को ताक पर रखकर अस्पतालों के संचालन बड़े पैमाने पर किया जा रहा है।

उल्लेखनीय तौर पर जिसको लेकर मनपा उपायुक्त भारत मराठे से संपर्क करने पर कोई जवाब नहीं दिया, दूसरी और एम/पूर्व के स्वस्थ विभाग के अधिकारी डॉ.नवनीत ने अस्पताल में सिटी स्कैन निकालने के कारण अपनी व्यस्तता का हवाला देकर पल्ला झाड़ लिया है। जबकि बिल्डिंग और फैक्ट्री विभाग के सहायक अभियंता व मनपा मुख्य अग्निशमन अधिकारी कैलाश विट्ठल हिवर्ले से संपर्क करने पर संपर्क नहीं हो पाया। फायर अधिकारी के ऑडिट किये बगैर, एन.ओ.सी. के संचालित हो रहे है अवैध नर्सिंग होम में किसी भी वक़्त भंडारा की घटना की पुर्नरावृत्ति  हो सकती है। जिससे मौत की कब्रगाह में बदल सकते है।

गौरतलब हो कि एम/पूर्व-पश्चिम में सबसे अधिक तकरीबन 190 के करीब नर्सिंग होमो की संख्या है। जिसमें से वैध और अवैध कितने है यह खुले तौर पर स्वस्थ अधिकारी जानकारी देने से कन्नी काटते दिखाई पड़ रहे है। अस्पताल के भीतर बने डिलीवरी वार्डो इतने तंग हाल बने हुए है जगह के अभाव में की कभी भविष्य में कोई दुर्घटना होने की सूरत में गर्भवती महिलाओं को अपनी जान बचना मुश्किल पड़ सकता है। कहते है मरीजों के परिवारजनों को बैठने तक कि जगह तक नही रहती खड़े खड़े लौट जाते है। स्थानीय नागरिको की अगर माने तो कभी-कभी  मरीजों की संख्या अधिक होने की सूरत में एक पलंग में दो मरीजों को भी लिटाया जाता है। जिससे एक मरीज की बीमारी दूसरे में फैलने के खतरा बढ़ जाता है। मरीजों के परिवार वालों को नर्सिंग होम के डॉक्टर बाध्य करते है कि फला मेडिकल से ही दवा लाना वर्ना नक़ली मिलेगी, अस्पताल की कमाई के साथ मेडिकल स्टोर में कमीशन की कमाई से मालाई खाने में लगे है नर्सिंग होम वाले।

नियमों को ताक पर रखकर, संचालित हो रहे है अवैध नर्सिंग होम

भाजपा महाराष्ट्र प्रदेश सचिव हुसैन खान के अनुसार अवैध नर्सिंग होमो में बरती जा रही नियम कानून को ताक में रखकर भारी अनिमितियाओ के बीच क्षेत्र में सक्रिय रूप से संचिलत हो रहे अवैध नर्सिंग होमो। नर्सिंग होमो को अनपढ़ संचालकों के द्वारा संचालित किया जा रहा रहा। इतना ही नही क्षेत्र के किसी भी नर्सिंग होमो में 24 घंटे, आर.एम.ओ, उच्च शिक्षित नर्स, एम.बी.बी.एस, एम.डी, जैसे योग्य डॉक्टरों की तैनाती के बगैर कैसे संचालित किये जा रहे मैटरनिटी, नर्सिंग होम। इसके अलावा जनरल, सर्जिकल, ओपीडी, हवाई 5 मंजिला इमारतों में जगह के अभावों में बिल्डिंग-फैक्ट्री सहित फायर एनओसी के बगैर कैसे और किसके संरक्षण में काफी वर्षो से संचालित हो रहे है ऐसा सवाल सरकार से पूंछा है? इतना ही नही मनपा प्रशासन का बिल्डिंग व फैक्ट्री विभाग से लेकर फायर विभाग अभी तक एम पूर्व -पश्चिम के कितने नर्सिंग होमो का ऑडिट कर चुका है ?

Comments
Popular posts
Mumbai : ‘काव्य सलिल’ काव्य संग्रह का विश्व पर्यावरण दिवस पर विमोचन और सम्मान पत्र वितरण समारोह आयोजित
Image
Mumbai : महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमिटी पर्यावरण विभाग के प्रदेश उपाध्यक्ष साहेब अली शेख, मुंबई अल्पसंख्यक अध्यक्ष व नगर सेवक हाजी बब्बू खान, दक्षिणमध्य जिलाध्यक्ष हुकुमराज मेहता ने किया वृक्षारोपण
Image
New Delhi :पर्यावरण संरक्षण महत्व व हमारा अस्तित्व पर 'एम वी फाउंडेशन' द्वारा विराट कवि सम्मेलन का आयोजन
Image
मानव पशु के संघर्ष पर आधारित फिल्म 'शेरनी' मेरे दिल के करीब है – विद्या बालन
Image
पावस ऋतु के स्वागत में ‘काव्य सृजन’ की ‘मराठी काव्य’ गोष्ठी
Image