नगरसेवकों को मूर्ख बनाने का प्रयास

 रिपोर्ट : प्रमोद कुमार 

ठाणे : ठाणे मनपा के सचिव विभाग ने नगरसेवकों को मूर्ख बनाने का प्रयास किया है। महासभा की विषय पत्रिका में कोरोना अस्पताल और क्वारंटाइन सेंटर में आपूर्ति किए गए भोजन के बिल के प्रस्ताव को एजेंडे से गायब कर दिया गया है। हालांकि वरिष्ठ अधिकारियों को भेजे गए विषय पत्रिका में इस प्रस्ताव को दिखाया गया है। यह मामला सामने आने के बाद मनपा प्रशासन की जमकर खिंचाई शुरु हो गई है। भाजपा नगरसेवक नारायण पवार ने मनपा की इस हरकत पर निंदा करते हुए आपत्ति जताई है। 

उल्लेखनीय है कि मनपा महासभा वेबिनार के माध्यम से शुरू है। वेबिनार से होने वाली सहासभा में आने वाले एजेंडों की प्रतियां चार से पांच दिन पहले नगरसेवकों के पास भेजी जाती है। भाजपा नगरसेवक नारायण पवार ने कहा कि मनपा के सचिव विभाग की तरफ से भेजे गए एजेंडे में कोरोना महामारी के दौरान कोविड अस्पतालों और क्वारंटीन सेंटरों में आपूर्ति किए गए भोजन बिल के प्रस्ताव को भी शामिल किया गया था, जिसे नगरसेवकों के पास नहीं भेजा गया है। उन्होंने कहा कि भोजन के बिल पर पहले भी नगरसेवक अपनी आपत्ति दर्ज करा चुके हैं। नगरसेवक पवार ने कहा कि बुधवार को होने वाले महासभा में भायंदरपाड़ा स्थित सी और डी विंग, कासरवडवली, बुश कंपनी, ओजोन स्थित मरीजों, मेडिकल स्टॉफ के साथ मनपा कर्मियों को भोजन दिया गया था। महासभा में नगरसेवकों ने भोजन बिल से संबंधित छह प्रस्तावों को लाया जा रहा है। हालांकि नगरसेवकों को दिए गए एजेंडे से उक्त प्रस्तावों को अलग कर दिया है। इसे लेकर मनपा के सचिव विभाग ने नगरसेवकों को ठोस कारण नहीं दिया है। इस मामले का खुलासा उस समय हुआ, जब भाजपा नगरसेवक नारायण पवार सोमवार को मनपा के एक वरिष्ठ अधिकारी से मिले। उस समय उन्हें यह पता चला कि विषय पत्रिका में भोजन बिल के छह प्रस्तावों को शामिल किया गया है।

Comments