शिवसेना और भाजपा के नगरसेवक आमसभा में भिड़े

रिपोर्ट : प्रमोद कुमार

नाशिक : शिवसेना और भाजपा के नगरसेवक  आमसभा में शामिल हुए और नाशिक रोड पर दूषित पानी के मुद्दे पर एक दूसरे से भिड़ गए। शिवसेना के नगरसेवक मंच की ओर दौड़ पड़े और मेयर से राजदंड छीनने की कोशिश की। इस समय शिवसेना और भाजपा के नगरसेवक आपस में भिड़ गए। परिणामस्वरूप महापौर सतीश कुलकर्णी  को अभूतपूर्व हंगामें के कारण महासभा को स्थगित करना पड़ा। नाशिक रोड के कुछ वार्डों में दारणा पंपिंग स्टेशन से पानी की आपूर्ति की जाती है, लेकिन कई बार शिकायत करने के बावजूद शिवसेना के नगरसेवकों ने ऑनलाइन जनरल बॉडी मीटिंग को स्थगित करने की कोशिश की। शिवसेना के नगरसेवकों ने आम सभा में प्रवेश किया और महापौर से दूषित पानी के बारे में पूछा। शिवसेना के नगरसेवकों ने आंदोलन शुरू कर दिया, क्योंकि उन्हें प्रशासन की ओर से कोई जवाब नहीं मिल रहा था। हॉल में उद्घोषणा शुरू हो गई। इस बार कुछ नगरसेवकों ने राजदंड को मेयर से छीनने की कोशिश की। इससे हॉल में भारी हंगामा शुरू हो गया। भाजपा-शिवसेना के नगरसेवक राजदंड को छीनने और बचाने के लिए भिड़ गए। शिवसेना-भाजपा के नगरसेवकों ने महासभा में एक-दूसरे पर आरोप लगाना शुरू कर दिया। भाजपा के नगरसेवकों को मारपीट करने का आरोप लगाने पर शिवसेना नगरसेवक आक्रामक हो गए। राजदंड को छीनने और बचाने के प्रयासों में हॉल में जमकर हंगामा किया गया। अंत में महापौर ने आम सभा को कुछ देर के लिए स्थगित कर दिया। सभागृह की कार्रवाई शुरू होते ही नाशिक रोड विभाग के शिवसेना की नगरसेविका ने इस इलाके में होने वाले दूषित पानी की आपूर्ति का सवाल करते हुए दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई करने की आक्रमक मांग की। लेकिन महापौर ने महासभा में चर्चा के विषय को लेने से इन्कार कर दिया, जिस पर खूब हंगामा खड़ा हो गया। नाशिकरोड की पानी की समस्या कब हल होगी, सत्तारूढ़ भाजपा नाशिकरोड की ओर ध्यान क्युं नहीं देती है, इस प्रकार के और भी कई प्रश्न किए गए। नगरसेवक सत्यभामा गाडेकर, सूर्यकांत लवटे, प्रशांत दिवे, रमेश धोंगडे, जयश्री खर्जुल इन सेना के नगरसेवकों ने महापौर से सवाल किया। विरोधी पक्ष नेता अजय बोरस्ते, शिवसेना के गट नेता विलास शिंदे के साथ अन्य नगरसेवक भी महापौर के कार्यालय में पहुंच गए। यहां दिवे, लवटे, धोंडगे और खर्जुल ने महापौर के मंच के सामने आंदोलन करते हुए नारेबाजी शुरू कर दी।  महापौर कुलकर्णी, सभागृह नेता सतीश सोनवणे, भाजपा गटनेता जगदीश पाटिल, नगर सेवक मुकेश शहाणे इन नगरसेवकों ने सवालों के जवाब ना देते हुए बहस शुरू कर दी, जिससे सभा का माहोल गरमा गया और हंगामा शुरू हो गया।

Comments