शेयर मार्केट में निवेश कैसे करें?

मुंबई : बहुत-से लोग शेयर बाजारों में निवेश करने की इच्छा को एक तरफ रखकर यह मान लेते हैं कि उन्हें शुरू करने के लिए बड़ी पूंजी की आवश्यकता होगी। हालाँकि, सच्चाई इस धारणा से बहुत दूर है। आप शेयर बाजार में 500 रुपए प्रतिमाह के निवेश के साथ भी प्रवेश कर सकते हैं, और अगर आप चुनते हैं तो 100 रुपए प्रतिमाह का विकल्प भी चुन सकते हैं। वास्तव में, यदि आप बड़ी संपत्ति बनाना चाहते हैं तो सबसे अच्छा तरीका होगा छोटी राशि का नियमित निवेश करने की आदत विकसित करना है। लगातार निवेश की आदत आपको भविष्य में बेहतर वित्तीय स्थिति में लाएगी।

शेयर बाजार में निवेश करते समय आपको बाजार की कुछ मूल बातों और रणनीतियों को जानना होगा। शुरुआत के लिए, यह पता लगाएं कि आप शेयरों में कितना निवेश करने के इच्छुक हैं और निवेश के लिए अपने लक्ष्य को तय करें। इसके बाद, आप एक ब्रोकर के साथ नामांकन करके आगे बढ़ सकते हैं और अपना डीमैट और ट्रेडिंग खाता शुरू कर सकते हैं। फिनोलॉजी के सीईओ प्रांजल कामरा ने यहां कुछ महत्वपूर्ण बातें बताई हैं जो आपको शेयर बाजार में निवेश करते समय मदद करेंगी।

लंबी अवधि का विकल्प चुनें: अब जब आपने पहला कदम उठा लिया है, तो लंबी अवधि में निवेश करना एक ऐसी चीज है जिस पर आपको गंभीरता से विचार करना चाहिए। इस बीच, यह महत्वपूर्ण है कि आप अपने लक्ष्य को जानें और भविष्य में आपको पैसों की आवश्यकता पड़ने पर अस्थायी विचार करें। लंबी अवधि में निवेश करने से अच्छे रिटर्न मिल सकते हैं क्योंकि आप बाजार के अल्पकालिक उतार-चढ़ाव से प्रभावित नहीं होंगे।

निरंतरता रखें: इस यात्रा में निरंतरता आपको बहुत दूर तक ले जा सकती है। आप देखें, निवेश के लिए लगातार प्रतिबद्धताओं की आवश्यकता होती है। एक निवेशक के रूप में आपको सर्वोत्तम परिणाम प्राप्त करने के लिए नियमित और सुसंगत रहना होगा। यहां, नियमित राशि की बचत और नियमित रूप से निवेश प्रमुख है। और, यदि आप निर्धारित सप्ताह में अलग से फंड नहीं डाल सकते हैं, तो आने वाले सप्ताह में इसके लिए प्रयास करें।

जोखिम को सहन करने की क्षमता को समझना आवश्यक है: आप अपनी जोखिम को सहन करने की क्षमता और समझ का आकलन करके इस निवेश यात्रा को सुखद बना सकते हैं जहां आप जोखिमों के बीच होते हैं। एक निवेशक के रूप में आपके व्यक्तित्व के साथ यह परिचितता आपको अपनी निवेश यात्रा की निगरानी करने में मदद करेगी। उदाहरण के लिए, अपनी जोखिम सहन करने की क्षमता को समझकर, आप कुछ लेन-देन से बच सकते हैं जो आपको बाद में चिंतित कर सकते हैं। साथ ही, यह आपको स्पष्ट तस्वीर प्राप्त करने में भी मदद करेगा जहां आप जोखिम उठा सकते हैं।

अपनी भावनाओं पर काबू रखें: आप अपने निवेश को लेकर भावनात्मक क्षणों का सामना करने के लिए बाध्य हैं। आप अक्सर पैसा बनाने और मौका खोने के विचारों से लगातार घिरे रहेंगे। ऐसे समय में, आपको भावनाओं में बहकर निर्णय नहीं लेना चाहिए। यह विचार गणना के आधार पर होने चाहिए और अच्छा प्रॉफिट बुक करने के लिए डर या क्षणिक आग्रह से प्रेरित निर्णय लेने से बचें।

अपने निवेशों में विविधता लाएं: अपने निवेश में विविधता लाना एक बैकअप प्लान है। इसलिए, यह आपके निवेश करियर में एक अभिन्न तत्व होना चाहिए। यह किसी सेक्टर की प्रतिकूल स्थितियों से आपके निवेश की रक्षा करता है और आपको इष्टतम गति बनाए रखने में सक्षम बनाता है। एक तरह से, विविधता नुकसान के खिलाफ आपकी ढाल है। सुनिश्चित करें कि आप न केवल अलग-अलग क्षेत्रों में, बल्कि उनके भीतर भी और संभव होने पर वस्तुओं और बांडों में भी विविधता लाएं।

कभी-कभी निवेश की यात्रा उतार-चढ़ाव भरी हो सकती है क्योंकि हर बार आर्थिक गतिविधियों में उतार-चढ़ाव होते हैं। इस वजह से एक ऐसी व्यवस्था का होना बहुत ज़रूरी है जो आपको बाज़ार की मंदी में अपनी सारी संपत्ति खोने से बचाए।

आखिर में, आपके द्वारा बुक की गई राशि पूरी तरह से इस बात पर निर्भर करती है कि आप निवेशक के रूप में कितने चतुर हैं। आपके अंतिम-परिणाम आपके यात्रा के दौरान आपके छोटे और बड़े दोनों निर्णयों द्वारा निर्धारित होंगे। अक्सर शेयर बाजारों में पैसा बढ़ाना सभी सही निर्णय लेना है। और ऐसा करने के लिए हमेशा कोशिश की जानी चाहिए कि ऊपर जो रणनीतियों बताई गई है, उनका सख्ती से पालन करें।

Comments