एफसीए इंडिया ने 250 मिलियन डॉलर के निवेश के साथ स्‍थानीय उत्‍पादों की श्रृंखला का विस्‍तार किया
  •  एफसीए इंडिया ने 250 मिलियन डॉलर के निवेश के साथ स्‍थानीय उत्‍पादों की श्रृंखला का विस्‍तार किया
  • पिछले पांच सालों में एफसीए ने भारत में परिचालन के लिए 700 मिलियन डॉलर से ज्यादा का निवेश किया है
  • 2022 के अंत तक भारत में चार नए स्‍थानीय उत्‍पाद लॉन्च किए जाएंगे
  • न्यू जीप कम्पास मार्केट में आने के लिए बिल्कुल रेडी है। पूरे भारत में इसकी लॉन्चिंग की तैयारी हो चुकी है
  • यह पहली मध्यम आकार की जीप है, जिसमें सीटों की तीन कतार है। इसकी भारत में लॉन्चिंग की पुष्टि हो गई है।
  • शानदार जीप रैंगलर को रंजनगांव में स्थानीय रूप से असेंबल किया जाएगा
  • नेक्सट जेरनरेशन की ग्रैंड चेरोकी जीप को भी रंजनगांव में स्थानीय तौर पर असेंबल किया जाएगा।

मुंबई : एफसीए ने आज भारत में स्‍थानीय उत्‍पादों की श्रृंखला का विस्तार करने की घोषणा की। इससे यह पुष्टि हो गई कि चार नई एसयूवी जीप के उत्पादन के लिए कंपनी भारत में 250 मिलियन डॉलर से अधिक राशि का निवेश करने के लिए प्रतिबद्ध है। इस ऑल न्यू लोकल व्हीकल लाइन अप में 2021 की मेड इन इंडिया कंपास जीप भी शामिल है। यह स्थानीय तौर पर बनाई गई दुनिया भर में पहली तीन सीटों की कतार वाली जीप होगी। इसके अलावा इस पोर्टफोलियो में बेहतरीन और आदर्श जीप रैंगलर और नेक्सट जेनरेशन की ग्रैंड चेरोकी फ्लैगशिप जीप शामिल है। रंजनगांव में इन दोनों गाड़ियों की एफसीए के संयुक्त उपक्रम के तहत बनाए गए निर्माण संयंत्र में स्थानीय तौर पर असेंबलिंग की जाएगी। 2022 के अंत तक चारों नई गाड़ियां भारत की सड़कों पर दौड़ेने लगेंगी।

2021 की जीप कंपास 7 जनवरी 2021 को प्रदर्शन के लिए बिल्कुल तैयार है। इसका प्रॉडक्शन भी शुरू हो चुका है। सात सीटों की मध्यम आकार की इस लग्जरी जीप को एच 6 का कोडनेम दिया गया है, जिसे 2022 में लॉन्च किया जाएगा।

एफसीए इंडिया के प्रबंध निदेशक डॉ. पार्थ दत्ता ने आज की घोषणा पर टिप्‍पणी करते हुए कहा, “250 मिलियन डॉलर का हमारा नया निवेश हमें कई श्रेणियों में प्रतिद्वंद्वियों के मुकाबले ज्यादा मजबूत बनाएगा। हमारी नई जीप एसयूवी का उत्पादन रंजनगांव में शुरू हो गया है।“

डॉ. दत्ता ने कहा, “हमने यह निवेश उन 450 मिलियन डॉलर के निवेश के अतिरिक्त किया है, जिसकी हम पिछले पांच सालों में भारत में संचालन बढ़ाने के लिए निवेश करने की प्रतिबद्धता जता चुके हैं। जीप ब्रैंड की स्थापना के 80वें वर्ष में भारत के प्रति लगातार प्रतिबद्धता के साथ हम नए बेहतरीन और शानदार प्रॉडक्ट्स की घोषणा कर काफी प्रसन्न हैं।“

एफसीए ने हाल ही में हैदराबाद के ग्लोबल डिजिटल सेंटर में निवेश कर अपने संचालन का दायरा बढ़ाने की घोषणा की है। इस ऑटोमोबाइल ग्रुप ने हाल ही में अपने इंजीनियरिंग ऑपरेशन का विस्तार किया है। 2021 के अंत तक हम कम से कम 1000 नए रोजगार का सृजन करेंगे। 2015 में एफसीए ने रंजनगांव में कंपास जीप के स्थानीय तौर पर विकास और उत्पादन के लिए निवेश किया है। इसके अतिरिक्त एफसीए ने बीएस-6 मानकों का पालन करने करने के लिए अपनी तकनीक को अपग्रेड किया है। कंपनी ने भारत में ऑफर किए जाने वाले प्रॉडक्ट्स को स्थानीय तौर पर असेंबलिंग करने और संचालन के लिए भी निवेश किया है।

डॉ. दत्ता ने कहा, “हम अपने वाहनों के लिए तमाम कलपुर्जों का उत्पादन स्थानीय तौर पर बढ़ाने के लिए दृढ़ हैं, जिसे हमारे जॉइंट वेंचर के निर्माण संयंत्र में बनाया जाएगा। भारत में हमारी योजनाओं का लक्ष्य अपने प्रॉडक्ट्स और सर्विसेज के माध्यम से उपभोक्ताओं को उनके पैसे की ज्यादा से ज्यादा कीमत और उन्हें अधिकाधिक लाभ दिलाना है। हम उपभोक्ताओं की संतुष्टि के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं और अपने व्यापारिक साझीदारों के लिए कारोबार के रास्ते खोल रहे हैं।“

जीप ब्रैंड ने भारत में 2016 में अपना डेब्‍यू किया था। इसके बाद पुरस्कार विजेता जीप कंपास को 2017 में लॉन्‍च किया गया। कंपनी के ऐतिहासिक ब्रैंड एसयूवी ने सुरक्षा, इंजीनियरिंग क्वॉलिटी और क्षमता के क्षेत्र में नए मानक तय कर भारत में अपने लिए खास जगह बना ली है।

जीप को हाल ही में टीआरए की 2020 ब्रैंड ट्रस्ट रिपोर्ट में भारत के सबसे भरोसेमंद एसयूवी निर्माता ब्रैंड के रूप में सम्‍मानित किया गया था।

Comments