भाई जगताप को मुंबई कांग्रेस का अध्यक्ष बनाये जाने पर बधाईयों का लगा तांता

कांग्रेस 2022 का चुनाव लड़ेगी नव निर्वाचित मुंब अध्यक्ष भाई जगताप के नेतृत्व में

रिपोर्ट : यशपाल शर्मा

मुंबई : कांग्रेस इंटक के अध्यक्ष रहे भाई जगताप मज़दूर नेताओं के मुखिया के तौर पर अपनी कांग्रेस पार्टी में पहचान बनाई है। कांग्रेस पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी की रैलियो को सफल बनाने के लिये हमेशा से भाई जगताप को कार्यक्रमों को कामयाब बनाने का श्रेय भीड़ जुटाकर जाता आया है। उल्लेखनीय तौर पर राजनीतिक में एक लंबा समय बिताने वाले इस तेजतर्रार और डैशिंग विधायक भाई जगताप को शनिवार की शाम मुंबई कांग्रेस का नया अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। जबकि चरणजीत सिंह सप्रा को कार्यकारी अध्यक्ष और एमआरसीसी के लिए एमपीसीसी का इंचार्ज पूर्व मंत्री चंद्रकांत हंडोरे होंगे। नसीम खान को प्रचार समिति की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

बता दें कि पिछले कुछ दिनों से मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए नए नेता की तलाश जोरों से की जा रही थी। यहां तक की सभी ब्लॉक अध्यक्ष की राय भी माँगी गयी थी। उसके बाद शनिवार की शाम को जैसे ही मुंबई कांग्रेस के नए अध्यक्ष भाई जगताप के नाम की घोषणा हुई, उसके बाद से जगताप को बधाई देने वालों का तांता लग गया है। कुर्ला के कांग्रेस नेता और वज्मे इंसानियत वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष मुजीबुर्रहमान सिद्दीकी ने भाई जगताप को मुंबई कांग्रेस का अध्यक्ष और पूर्व मंत्री नसीम खान को प्रचार समिति का प्रमुख बनाये जाने नेता द्वय को अपनी हार्दिक बधाई देते हुए कहा कि कांग्रेस हाई कमान ने सही समय पर सही निर्णय लिया है। जगताप के मुंबई अध्यक्ष बनाये जाने पर युवकों में नई ऊर्जा का संचार हुआ है इससे कांग्रेस पार्टी का आधार मजबूत होगा। वहीं घाटकोपर (पूर्व) ब्लॉक क्रमांक131 के कांग्रेस अध्यक्ष विदेश पाल सिद्धू ने भाई जगताप को मुंबई प्रदेश का अध्यक्ष नियुक्त किए जाने पर उन्हें हार्दिक शुभकामनाएं दी है। सिद्धू ने कहा कि जगताप के आने से कांग्रेस के कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ गया है। जबकि चेम्बूर के वरिष्ठ कांग्रेस नेता और प्रदेश कांग्रेस समिति के सदस्य अल्लाउद्दीन अजीज ने भाई जगताप को मुंबई का नया अध्यक्ष बनाये जाने पर उन्हें हार्दिक बधाई देते हुए कहा कि वर्ष 2022 का मनपा चुनाव कांग्रेस जगताप के नेतृत्व में लड़ेगी और अच्छा प्रदर्शन करेगी। जिसके लिए सभी कांग्रेस कार्यकर्ताओं को अभी से ही अपने अपने इलाके में चुनाव प्रचार में जुट जाना चाहिए। जबकि अमरजीत मन्हास को समन्वय समिति का काम, मेनिफेस्टो और पब्लिकेशन की जिम्मेदारी पूर्व मंत्री सुरेश शेट्टी को सौपी गई है। 

 

Comments