नगर अभियंता के संरक्षण में हो रहा है करोडों रुपए का भ्रष्टाचार

इमारत विभाग में समय सीमा पूरी होने के बाद भी डटे हुए हैं 11 कर्मचारी, अवैध निर्माण माफियाओं को संरक्षण देने के लिए हर बार तबादला रुकवा लेते हैं अधिकारी

रिपोर्ट : यशपाल शर्मा

मुंबई : मनपा में भ्रष्टाचार का चारों तरफ बोलबाला है मनपा के इमारत विभाग पर बार-बार यह आरोप लगता है कि भ्रष्ट अधिकारी निर्माण माफियाओं से मिलीभगत कर अवैध निर्माण को अंजाम देते हैं.एक अनुमान के  अनुसार मुंबई मनपा में अवैध निर्माण की वजह से हर साल कई करोड़ का घोटाला होता है. कुर्ला के एल वार्ड में इमारत विभाग में 11 कर्मचारी ऐसे हैं जो 3 वर्षों का टाइम पूरा होने के बाद भी ड्यूटी पर डटे हुए हैं. सूचना अधिकार के तहत मिली जानकारी के अनुसार सहायक अभियंता प्रवीण बसावे ने 3 मई 2015 को ड्यूटी ज्वाइन किया था इसी तरह दूसरे सहायक अभियंता सागर करपे ने1 अगस्त 2016 को ड्यूटी जॉइन किया था. इसी तरह दुय्यम अभियंता निवेदन तोड़ने ने 2 दिसंबर 2016, कनिष्ठ अभियंता सुनील कोलंबकर ने 27 जून 2016,  किरण सोनोने और चारुदत्त मोहन ने 12 मई 2016 तथा सुमित जोगदंडे 11 मई 2016 और विशाल चोपड़ा ने 25 जुलाई 2016 ड्यूटी ज्वाइन किया था इसी कड़ी में मुकदम घाने ने 1 जून 2017, मुकदम रसाल ने 14 दिसंबर 2011 और मुकदम मिसाल ने 19 जुलाई 2017 को ड्यूटी जॉइन किया था।

समाज सेवक मैन बहादुर सिंह ने दावा किया है कि उक्त सभी अधिकारियों की बदली नियमानुसार 3 वर्षों के पश्चात हो जाना चाहिए था लेकिन सभी अधिकारी नगर अभियंता कार्यालय से मिलीभगत कर ड्यूटी पर डटे हुए हैं ताकि अवैध निर्माण माफियाओं से उनकी सांठगांठ बनी रहे और भ्रष्टाचार का आलम ऐसे ही चलता रहे. मैन बहादुर सिंह ने मनपा आयुक्त इकबाल सिंह चाहल से मांग की है कि इस मामले की जांच कराकर सभी भ्रष्ट अधिकारियों की तत्काल बदली की जाए.

Comments