नशे की शरणागाह के तौर पर तब्दील गोवंडी, शिवाजीनगर में युवक नशे के हालत में पोलिस पर धारदार हथियार से किया जानलेवा हमला

हमले में घायल शिवाजीनगर पुलिस स्टेशन का हवलदार गावड़े

रिपोर्ट : यशपाल शर्मा 

मुंबई : एका एक ग़हरी नींद से जागी पुलिस को जब पानी सर के ऊपर से निकल चुका है तब जाकर लाठी पीटने का कार्य कर रहे है ।यही कार्य अगर समय रहते किया गया होता तो आज पिछले कई महीनों से नशे के सौदागरों के खिलाफ छेड़ी गई मुहिम जोर पकड़ चुकी होती ।पूर्व जोन-6  के डीसीपी शशि सिंह मीणा के कार्यकाल में एक युवक नशे के हालत में 9 राहगीरों को धारदार चाकू से घायल कर दिया था जिसमें से एक महिला की अस्पताल में मौत हो चुकी थी ।

कल गोवंडी शिवाजीनगर के निरंकारी नगर के 90-फिट रोड में एक युवक नशे के हालात में खुले आम धारदार हथियार लेकर घुम रहा था ।घटनास्थल पर जमा स्थानीय भीड़ की सूचना  पर मौके पर पहुंच कर नशेड़ी युवक को काबू में करने की कोशिश में गावड़े नामक पुलिस हवलदार को शोएबा नामक शिवाजीनगर रोड़ नंबर 5 का रहने वाला नशेड़ी युवक ने अपने पास शरीर मे  छुपाये धारदार हथियार से हमला कर दिया है ।जिसपर गावड़े के हाथों में लंबा चीरा लग गया ।नशे में बेकाबू युवक को काबू में करने के लिये घायल होने के बावजूद एक अन्य पुलिस कर्मीय की मदद से शोएबा को काबू कर हथकड़ी लगाकर पुलिस चौकी ले गये ।भीड़ में खड़े किसी व्यक्ति ने मोबाइल पर वीडियो रिकॉर्ड कर वायरल कर दिया है ।जिसका  वायरल हों चुका है ।

उल्लेखनीय तौर पर वर्तमान समय मे नशे करने वाले नवजवानों युवक नशे के आदि होकर अपनी जान के साथ दूसरों की जान के दुश्मन बन बैठे है ।जिसके कारण गोवंडी में नशेडी युवकों की बढ़ती खेप मुंबइ के विभिन्न इलको की तर्ज पर एक चेतावनी है देश के भविष्य कहे जाने वाले नवयुवकों की ऐसी दयनीय हालत देखकर ।दूसरा वर्तमान समय मे जारी लॉक डाउन सरकार व प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा कोरोना के नाम पर जारी फण्ड में कमीशन खोरी कर के मालाई खाने में संलिप्त है तो दूरी और झोपड़पट्टियों में रहने वाली गरीब जनता लॉक डाउन में 8 महीनो एऐ घरों में बेरोजगारी के कारण नशे के आदि बनने के कारण से इंकार नही कर सकते।

कहा जाता है कि क्राइम ब्रांच ने नशेडियों ड्रग्स पेड़लरो के खिलाफ नशा विरोधी पथक ने छेड़ी मुहिम में अभी तक पुलिस को गोवंडी से करोड़ो रुपए की भारी मात्रा में ड्रग्स जप्त किया है। दो दिन पूर्व 33 लाख की ड्रग्स बटन की गोलियां पुलिस ने ड्राइवर,प्लम्बर,जारी कारीगर के पास से जप्त किया था। उल्लेखनीय तौर पर पुलिस के निशाने पर अब रिक्शा ड्राइवर है जो रिक्शा स्टैंड पर नशे की गोलियों का सेवन कर के यात्रियों की जान जोखिम में डालते है। कहा जाता है कि आधे से ज्यादा रिक्शा ड्राइवर नशेडी है और ड्रग्स की तस्करी भी करते है रिक्शे की आड़ में,जब कि कहा जाता है कि पुलिस इनको अपना खबरी बना लेती है ड्रग्स पेड़लरो तक पहुंचने को लेकर।

Comments