सीएमओ की सक्रियता से पुरूष नसबन्दी की संख्या में इजाफा

नसबन्दी पखवाड़ा में 92 महिलाओं व 8 पुरूषों ने करायी नसबन्दी

ज्ञानपुर/भदोही, (उ0प्र0) : परिवार नियोजन कार्यक्रम के अंतर्गत स्वास्थ्य विभाग की ओर से पुरूष नसबंदी पखवाड़ा 21 नवम्बर से चार  दिसम्बर तक चलाया गया। इस अभियान में जिले में आठ  पुरूषों एवं 92 महिलाओं को  नसबन्दी की सेवा विशेषज्ञ डाक्टरों द्वारा प्रदान की गयी । इसके साथ ही परिवार नियोजन में पुरूषों की हिस्सेदारी को बढ़ाने के लिए जागरूकता कार्यक्रम भी चलाया  गया ।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा.  लक्ष्मी सिंह ने बताया कि जिले में 21 नवम्बर से चार  दिसंबर तक पुरूष नसबंदी पखवाड़ा  चलाया गया। इसके तहत प्रथम चरण में दंपत्ति संपर्क अभियान चलाकर 27 नवम्बर तक दंपति  से संपर्क कर परिवार नियोजन के बारे  में जिले की 1100 आशा कार्यकर्ताओं ने विस्तारपूर्वक जानकारी दी । दूसरे चरण में चार  दिसम्बर तक जिले के पांच  सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों  व 16 प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर नसबन्दी की सेवा दी गई। भदोही प्राथमिक स्वास्थ्य पर सबसे ज्यादा पांच  पुरूषों की नसबन्दी की गई।  

परिवार नियोजन कार्यक्रम के नोडल अधिकारी डा.  राम गुलाम वर्मा ने बताया कि पुरूष नसबंदी पखवाड़ा में सीएमओ  की सक्रियता  से जिले में आठ  पुरूषों ने नसबन्दी कराकर अपनी हिस्सेदारी को दर्ज कराया है। इसके अलावा 92 महिलाओं की भी नसबन्दी की गई। केन्द्रों पर उपस्थित डाक्टरों ने केन्द्र पर आने वाले लोगों को परिवार नियोजन के अस्थाई साधनों को अपनाने का परामर्श भी दिया।

उन्होंने बताया कि नसबंदी पखवाड़े के अंतर्गत 219 लाभार्थियों को त्रैमासिक गर्भनिरोधक इंजेक्शन अंतरा लगाया गया जबकि 64 आईयूसीडी, 78 पी पी आई यू सी डी,  212 माला एन,  7350 कंडोम तथा 24 छाया गोली का वितरण कर लोगों को लाभान्वित किया गया ।

नसबन्दी की प्रमुख विशेषता -

नसबन्दी केवल उन्ही के लिए उपयुक्त है जिन्हें भविष्य में कोई बच्चा नहीं चाहिए। नसबन्दी सरल सुरक्षित और बहुत ही असरदार तरीका है। बिना चीरा टांका वाला पुरूष नसबन्दी एक छोटा सा आपरेशन है।

  • इसमें दोनो शुक्राणुओं की नलिकाओं को बांध दिया जाता है।  कुछ ही मिनटों में आपरेशन हो जाता है।
  • इसमें कोई गंभीर शिकायत या परेशानी नहीं होती है।
  • पुरूष नसबन्दी के बाद यौन इच्छा व क्षमता पहले की तरह ही रहती  है।

Comments