जिले के तीन लाख से अधिक बच्चे होगे विटामिन ए की खुराक से लाभान्वित

बाल स्वास्थ्य पोषण माह का शुभारम्भ

- रिपोर्ट : टी0सी0विश्वकर्मा

मीरजापुर, (उ0प्र0) : कोरोना जैसी महामारी के बीच स्वास्थ्य विभाग ने विभाग स्तर से चल रहे योजना को शुरू कर दिया है। सोमवार को बाल स्वास्थ्य पोषण माह की शुरूआत नगर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र संगमोहाल में मुख्य चिकित्साधिकारी डाक्टर पी0डी0 गुप्ता ने बच्चे को खुराक देने से शुरू किया।

मुख्य चिकित्साधिकारी डाक्टर पी0डी0 ने बताया कि विटामिन ए की खुराक जिले में 14 दिसम्बर से 15 जनवरी 2021 तक बच्चों को दिया जायेगा। इस बीच 09 माह से 05 वर्ष तक के तीन लाख से अधिक बच्चों को विटामिन ए की खुराक दिये जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इसके साथ ही जिले के 2000 आशाओं, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं समेत 534 एएनएम को भी इस कार्यक्रम में डोर - टू - डोर जागरूक करने के लिए लगाया गया है।

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डाक्टर नीलेश श्रीवास्तव ने बताया कि यह अभियान स्वास्थ्य विभाग एवं बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार के सहयोग से जिले में 14 दिसम्बर से 15 जनवरी 2021 तक बाल स्वास्थ्य पोषण अभियान को चलाया जायेगा। इसके लिए जिले के 9 सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, 44 प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों समेत 216 उपस्वास्थ्य केन्द्रों पर भी तैयारियां पूर्ण है। पोषण माह के दौरान जिला चिकित्सालय समेत स्वास्थ्य केन्द्रों पर भी विभिन्न गतिविधियों का आयोजन किया जायेगा। इस दौरान आने वाले 09 माह से 05 वर्ष तक के बच्चों को विटामिन ए की खुराक पिलाने का कार्य किया जायेगा। केन्द्र पर आने वाले बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण भी किया जायेगा। इसके अतिरिक्त जो बच्चे कुपोषित पाये जायेगे वे मण्डलीय चिकित्सालय स्थित एनआरसी सेन्टर पर उपचार के लिए भेजे जायेगे।

जिला कार्यक्रम अधिकारी प्रमोद कुमार सिंह ने बताया कि पोषण माह के दौरान बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग विटामिन ए की खुराक को शत प्रतिशत लक्ष्य पूर्ति में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका को दर्ज करायेगा। इसके अलावा रोगों की रोकथाम करते हुए स्तनपान एवं उपरी आहार को बढ़ावा देने के साथ ही कुपोषण से बचाव के लिए लोगों को आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा जागरूक करने का काम किया जायेगा।

टीकाकरण परामर्शदाता मायाशंकर का कहना है कि विटामिन ए की खुराक एक घुलनशील विटामिन है जो शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। ऐसे में 09 माह से 05 वर्ष तक के बच्चों को एक वर्ष में दो बार खुराक विभागीय स्तर से अभियान चलाकर दिया जाता है। इस खुराक को पीने से बच्चों में रोग प्रतिरोधक क्षमता में अत्यन्त वृद्धि होती है और बच्चा पूर्णत स्वस्थ्य रहता है।

विटामिन ए क्या है- विटामिन ए की खुराक बच्चों के लिए अत्यन्त आवश्यक है विटामिन ए की खुराक से बच्चों की आंख की रोशनी बढ़ने के साथ ही साथ रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है। इसके अलावा बच्चों में रतौधी, डायरिया जैसी बीमारियों से बचाने में भी अत्यन्त सहायक साबित होती है।

Comments