गणेश नाईक सिडको के हाउसिंग प्रोजेक्ट का विरोध

रिपोर्ट : प्रमोद कुमार

नवी मुंबई : सिडको की पीएम आवास योजना के खिलाफ बीजेपी विधायक गणेश नाईक ने खुला मोर्चा खोल दिया है। गणेश नाईक सिडको के उस हाउसिंग प्रोजेक्ट का विरोध कर रहे है, जिसे सानपाड़ा और जुईनगर रेलवे स्टेशन तथा वाशी ट्रक टर्मिनल में बनाया जा रहा है। बीजेपी विधायक ने कहा कि पहले से विकसित और भीड़भाड़ वाले सानपाड़ा और जूईनगर रेलवे स्टेशनों पर मकान बनाने से वहां संसाधनों की कमी और भीड़ से नयी मुसीबत पैदा होगी। गणेश नाईक ने कहा कि पीएम मोदी ने कभी नहीं कहा कि किसी की अड़चन बढ़ाकर मकान बनाओ, लेकिन निजी फायदों के लिए सिडको के चालक अधिकारियों ने यह कारस्तानी की और तत्कालीन मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस को अंधेरे में रखकर व्यस्त रेलवे स्टेशनों पर हाउसिंग योजना को मंजूर करवा लिया।  बताना जरूरी है कि सिडको प्रधानमंत्री के मिशन हाउसिंग फॉर ऑल के लिए नवी मुंबई के कई रेलवे स्टेशनों एवं बस अड्डों की जमीन पर आवास बनाने की तैयारी में है। पूर्वमंत्री गणेश नाईक की दलील है कि इससे विकसित इलाकों में पानी, बिजली और पार्किंग समेत दूसरी नागरी सेवाओं पर बोझ बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि अगर घर बनाना है, तो पनवेल, उरण या नैना क्षेत्र में बनाए जा सकते हैं, जहां हजारों एकड़ जमीन खाली पड़ी है। उन्होंने कहा कि मैं भी चाहता हूं गरीबों और बेघरों को घर मिले लेकिन दूसरों के लिए मुसीबत पैदा कर ऐसा आवास बनाने का मैं विरोध करता हूं।  बीजेपी विधायक ने सिडको के पूर्व एमडी भूषण गगरानी और लोकेश चंद्र का नाम लिए बिना कहा कि इन प्रशासकीय अधिकारियों ने व्यवहारिकता देखे बिना ही ट्रक टर्मिनल को एपीएमसी से 8 किलोमीटर दूर करवा दिया और भीड़ वाली जगह पर हाउसिंग प्लान बना दिया। नागरिकों के लिए क्लेसदायक साबित होगा यह जानते हुए भी जिस तरह का प्रोजेक्ट तैयार कराया वह उनकी चालबाजी और घटिया नियत का सबूत देता है। गणेश नाईक ने कहा ऐसे अधिकारियों को अपनी डिग्री फेंक देनी चाहिए।

Comments