माथाड़ी कामगारों की लंबित समस्याओं को दूर करने के लिए 14 दिसम्बर को बाजार बंद करने का निर्णय

रिपोर्ट : प्रमोद कुमार

नवी मुंबई : माथाड़ी कामगारों की लंबित समस्याओं को दूर करने के लिए सरकार का ध्यान उन समस्याओं की तरफ आकर्षित करने के उद्देश्य से एक दिन के लिए 14 दिसम्बर को बाजार बंद करने का निर्णय लिया है। कामगारों का कहना है कि पिछले 15 सालों से माथाडी कामगारों के अनेक प्रश्न लंबित है कई बार ध्यान आकर्षित करवाने के बावजूद उन समस्याओं की तरफ सरकार  ध्यान नहीं दिया जिसकी वजह से सोमवार 14 को एक दिन के लिए बंद का निर्णय लिया गया है। माथाडी कामगारों की समस्याओं को पूरी तरह से सुलझाने के लिए माथाडी कामगारों ने अब आर पार की लड़ाई लड़ने का मन बनाया है। जानकारी के अनुसार इस लड़ाई  रणनीति तैयार करने  वाशी स्थित माथाडी भवन में एक बैठक का आयोजन किया गया था। इस बैठक में माथाडी कामगार नेता नरेंद्र पाटील ने सभी कामगारों से अपील की इस लड़ाई को एकजुट होकर लड़ना होगा और सभी कामगारों  साथ आना होगा तभी कामगारों  समस्याओं का निदान हो पाएगा।  

माथाडी कामगार नेता नरेंद्र् पाटिल ने कहा कि इसमें राजनीति को अलग रखकर सभी पार्टियों को एक साथ आने की जरुरत है। उन्होंने कहा की अभी तक माथाडी कामगारों के हित के लिए सभी दल एकजुट होकर लड़ाई लड़ते आएं हैं। उन्होंने कहा कि पिछले 15 सालों से माथाड़ी कामगारों के अनेक प्रश्न लंबित हैं। उन्होंने कहा कि माथाडी बोर्ड की जो सलाहकार समिति है उस पर  सलाहकारों की नियुक्ति नहीं की  गयी है। कामगार के क्षेत्र में गुंडागिरी करने वाले लोग शामिल हो रहें हैं। उन्होंने कहा की कुछ लोग माथाडी कामगार के नाम का संगठन बना लेते हैं और फिर वसूली करने का काम शुरू कर देते हैं। उन्होंने कहा की व्यवसाय  विदेशी निवेश की अनुमति दी गयी है तब से कामगारों का आस्तित्व ही ख़त्म होता जा रहा है। नरेंद्र पाटिल ने कहा की माथाडी कामगारों की जो लंबित समस्याएं हैं उन्हें तत्काल दूर करने की जरुरत है और सरकार को इस पर गंभीरता पूर्वक ध्यान देना चाहिए। उन्होंने कहा कि 14 दिसम्बर को बंद का आयोजन किया जा रहा है इसमें माथाडी कामगारों को अपनी पूरी ताकत के साथ उतरना होगा। उन्होंने कहा की यह लड़ाई माथाडी कामगारों के आस्तित्व की लड़ाई है। कामगार नेता शशिकांत शिंदे  ने कहा कि केंद्र सरकार ने जिस तरह से कृषि क्षेत्र के तीन नए नियम बनायें हैं उससे व्यापारी और कामगारों का आस्तित्व  हो जायेगा। इस बैठक में महाराष्ट्र राज्य माथाडी ट्रांसपोर्ट एवं जनरल कामगार यूनियन के अध्यक्ष एकनाथ जाधव , चंद्रकांत पाटिल ,ऋषिकांत शिंदे ,रविकांत पाटिल ,दिलीप खोंड , पोपटराव देशमुख के आलावा बड़ी संख्या  मौजूद थे। 
माथाडी संगठन द्वारा आयोजित इस बंद को पूरे राज्य में लागू किया गया है इस बंद में मुंबई कृषि उत्पन्न बाजार के साथ पुणे, नाशिक, कोल्हापुर, सातारा  व अन्य जगहों के माथाडी कामगार पूरी सहभागी होने की बात कही कही गयी है। माथाडी कामगार  कहना है कि यह बंद सिर्फ सरकार का ध्यान आकर्षित करने के लिए किया जा रहा है।
Comments