कोविड-19 के दौर में सावधानियों के साथ निमोनिया से करें बचाव 


निमोनया से बचाव के लिए नवजात, शिशु एवं बच्चों को टीका लगवाना जरूरी


टीकाकरण के लिए नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र पर जाएं


रिपोर्ट : टी.सी.विश्वकर्मा


मीरजापुर, (उ.प्र.) :  कोविड-19 का दौर चल रहा है इस समय काफी मौसमी बीमारियों का भी सामना करना पड़ता है। सर्दी का मौसम आते ही निमोनिया का खतरा अत्यधिक बढ़ जाता है। निमोनिया को लोग साधारतः आम समस्या मानते हैं, लेकिन यह समस्या इतनी भी साधारण नहीं है। अगर इसका समय रहते ही सही तरीके से उपचार नहीं होता है तो यह गंम्भीर स्वास्थ्य समस्या पैदा कर सकती है।   


अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डाक्टर नीलेश श्रीवास्तव ने बताया कि निमोनिया होने पर सबसे पहले फेफड़े अत्यधिक संक्रमित हो जाते हैं और इससे सांस लेने में भी तकलीफ बढ़ जाती है। इस सक्रमण में फेफड़ों के वायु के थैलों में मवाद भर जाता है और सूजन आ जाता है, जिससे खांसी, बुखार, ठंड लगने व सांस लेने में तकलीफ होने लगती है। निमोनिया जैसी बीमारी से सक्रमित होने पर व्यक्ति में ंकई प्रकार के लक्षण दिखने लगते हैं कुछ साधारण उपाय के साथ निमोनिया जैसी बीमारी से बचा जा सकता है। 


बच्चों में निमोनिया के प्रमुख लक्षण


सांस तेज चलना, घरघराहट आदि भी निमोनिया बीमारी के लक्षण हो सकते हैं, निमोनिया के आम लक्षणों में खांसी, सीने में दर्द, बुखार व सांस लेने में कठिनाई प्रमुख रूप से होते हैं। पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों में निमोनिया होने पर उन्हें सांस लेने तथा दूध पीने में भी परेशानी भी होती है और भी सुस्त हो जाते हैं बच्चों की प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत बनी रहे इसलिए जन्म के तुरन्त बाद बच्चे को मां का पहला गाढ़ा दूध अवश्य देना चाहिए। 


निमोनिया के अन्य मुख्य लक्षण



  • सांस लेने या खांसने पर सीने में दर्द

  • खांसी जो कफ पैदा कर सकती है।

  • बुखार पसीना और कपकपी के साथ ठण्ड लगना

  • मतली उल्टी या दस्त

  • सांस लेने में परेशानी

  • सामान्य शरीर के तापमान से कम

  • 65 वर्ष या उससे अधिक उम्र के व्यक्तियों में मानसिक भ्रम की स्थिति


अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डाक्टर गुलाब वर्मा ने बताया कि निमोनिया से बचने के लिए निमोनिया और फलू के टीके जिले के मण्डलीय चिकित्सालय समेत 9 सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, 45 प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र व 216 उपकेन्द्रों पर उपलब्ध है। डाक्टर के परामर्श के बाद इसको लोग अपने नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्रों पर जाकर लगवा सकते हैं। सांस की नली के संक्रमण से बचने के लिए अपने हाथों को नियमित रूप से धोएं या अल्कोहल आधारित सैनिटाइजर का प्रयोग करें इसके अलावा कोविड के दौर में मास्क को सही तरीके से लगाएं।


Comments
Popular posts
Mumbai : ‘काव्य सलिल’ काव्य संग्रह का विश्व पर्यावरण दिवस पर विमोचन और सम्मान पत्र वितरण समारोह आयोजित
Image
Mumbai : महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमिटी पर्यावरण विभाग के प्रदेश उपाध्यक्ष साहेब अली शेख, मुंबई अल्पसंख्यक अध्यक्ष व नगर सेवक हाजी बब्बू खान, दक्षिणमध्य जिलाध्यक्ष हुकुमराज मेहता ने किया वृक्षारोपण
Image
New Delhi :पर्यावरण संरक्षण महत्व व हमारा अस्तित्व पर 'एम वी फाउंडेशन' द्वारा विराट कवि सम्मेलन का आयोजन
Image
मानव पशु के संघर्ष पर आधारित फिल्म 'शेरनी' मेरे दिल के करीब है – विद्या बालन
Image
पावस ऋतु के स्वागत में ‘काव्य सृजन’ की ‘मराठी काव्य’ गोष्ठी
Image