दिल्ली : कोरोना-संक्रमण की बढ़ोत्तरी के चलते सार्वजनिक स्थानों पर रोक होने के बावजूद लोगों ने छठ-पूजा को बड़े हर्षोल्लास से मनाया


रिपोर्ट : अनीता गुलेरिया

दिल्ली : द्वारका जिले के समस्त इलाके मे छठ व्रती महिलाओं ने अपने घर के आस-पास छोटे-छोटे ग्रुपों में (दो गज, दूरी मास्क है जरूरी) अपने घरों के आसपास या घर की छत पर अस्थाई-घाट बनाकर पब्लिक दूरी जैसे सभी नियमों का पालन करते हुए कल ढलते सूरज और आज सुबह उगते सूरज को अर्घ्य देकर व्रत-पूजन को पूरे श्रद्धा भाव से किया सम्पन्न।  

बता दें, इस बार दिल्ली के समस्त छठ घाट पूरी तरह से सूखे व सुनसान दिखाई दिए,लेकिन इसके बावजूद द्वारका सेक्टर 16-बी प्रधान माधव पांडे ने अपने स्टूडियो अपार्टमेंट में अस्थाई घाट का प्रबंध करते हुए बताया, महामारी में लिया गया यह फैसला सभी की जिंदगीयों के लिए बेहतर है हम छठ मैया से यह कामना करते हैं आने वाले छठ पर्व पर सब के मुंह से यह मास्क उतर जाए और हम अगले वर्षछठ पर्व को पूरे धूमधाम से मनाएं। नजफगढ़, द्वारका मोड़ और द्वारका से सटे श्याम विहार कॉलोनी के लोगों ने इस त्योहार को पूरे हर्षोल्लास से मनाते हुए कोरोना महामारी से जल्द मुक्ति के लिए छठ मैया से मनोकामना की।

हमारी मीडिया टीम से बातचीत दौरान दिल्ली सरकार और उच्चतम न्यायालय परिसर द्वारा सार्वजनिक पूजा घाटों पर मनाही को लेकर सभी तकरीबन सभी भक्तजनो ने अपनी पूरी सहमति जताते हुए कहा यदि जिंदगिया सलामत रहेगी तो आस्था भी खुद-ब-खुद कायम रहेगी, उन्होने दिल्ली सरकार के फैसले को पूरी तरह से एकदम सही ठहराया।


फिलहाल कुछ दिनों से कोरोना संक्रमित केसों में हो रही बढ़ोतरी को मद्देनजर रखते हुए दिल्ली सरकार व न्यायालय परिसर द्वारा छठ घाट पूजा पर प्रतिबंध लगाए गए थे,जिसको लेकर दिल्ली पुलिस भी अपने अपने इलाके में लोगों को सतर्क करते नजर आई 

Comments