5 नवम्बर से बदले नियमों के साथ बंटेगा राशन 


बदलाव : शिशु, गर्भवती, धात्री व किशोरियों को दिया जायेगा गेहूॅ, चावल, दाल, देसी घी एवं स्किम्ड मिक्स पाउडर का भी वितरण 


रिपोर्ट : टी. सी. विश्वकर्मा


मीरजापुर, (उ.प्र.) : जिले में 5 नवम्बर से कुछ बदलाव के साथ राशन वितरण होगा इसके लिए बाल विकास विभाग ने पूरी तैयारी कर ली है। नये नियम के तहत अब फोर्टीफाइड अनुपूरक पोषाहार की जगह सूखा राशन जैसे गेहूं, दाल, चावल व दुग्ध पदार्थ केन्द्र से वितरित किया जायेगा।


बाल विकास विभाग ने राशन के वितरण में बदलाव लाने के बाद 5 नवम्बर से अक्टूबर माह के राशन का वितरण शुरू करेगा। जिसके तहत जिले के 2668 आंगनबाड़ी केन्द्रों पर अब सूखे राशन के वितरण की प्रणाली को नवम्बर माह से लागू किया है। इसके लिए विभाग अक्टूबर माह में ही सभी बाल विकास परियोजना अधिकारी, मुख्य सेविका व आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को पत्र के माध्यम से भी अवगत कराया जा चुका है।


प्रमोद कुमार सिंह जिला कार्यक्रम अधिकारी बाल विकास एवं पुष्टाहार ने बताया कि शिशु, गर्भवती, धात्री व किशोरियों के स्वास्थ्य व सही पोषण को गति प्रदान करने के उद्देश्य से आंगनबाड़ी केन्द्रों पर विभाग के माध्यम से लाभार्थियों को दिए जा रहे फोर्टीफाइड अनुपूरक पोषाहार (वीनिंग फूड, मीठा, नमकीन, दरिया व लड्डू प्रीमिक्स ) के स्थान पर सूखा राशन गेहूं, दाल, चावल व दुग्ध पदार्थ जैसे देसीघी, स्किम्ड, मिक्स पाउडर केन्द्र से वितरित किया जाना सुनिश्चित किया गया है।


आर0एन0सिंह बाल विकास परियोजना अधिकारी जमालपुर के अनुसार शासन स्तर व प्रदेश स्तरीय विभागीय अधिकारियों द्वारा जिले के केन्द्रों पर पुष्टाहार उत्पादन व वितरण का निर्णय लिया जा चुका है। परियोजना स्तर पर इस तरह की प्रणाली को विकसित होने तक पोषाहार के रूप में ड्राई राशन (दाल, चावल, गेहूं) व दुग्ध पदार्थ (देशी घी एवं स्किम्ड मिल्क पाउडर) आंगनबाड़ी केन्द्रों से वितरित किया जायेगा।


बताया कि गर्भवती, धात्री, महिलाओं व 11 से 14 वर्ष की किशोरियों को प्रतिमाह 2 किलो गेहूॅ, 1 किलो चावल, 750 ग्राम दाल एवं तिमाही 450 ग्राम देशी घी, 750 ग्राम स्किम्ड मिक्स पाउडर पोषाहार के रूप में विभाग द्वारा उपलब्ध कराने का काम किया जायेगा। 6 माह से 3 वर्ष के बच्चों को प्रतिमाह 1.5 ग्राम गेहूं, 1 किलो चावल, 450 ग्राम दाल एवं तिमाही 450 ग्राम देशी घी, 400 ग्राम स्किम्ड मिक्स पाउडर दिया जायेगा। यह व्यवस्था 3 वर्ष से 6 वर्ष के बच्चों पर भी लागू है। इसी प्रकार अति कुपोषित बच्चों को प्रतिमाह 2.5 किलो गेहूं, 1.5 किलो चावल, 500 ग्राम दाल एवं तिमाही 900 ग्राम देशी घी, 750 ग्राम स्किम्ड मिक्स पाउडर पोषाहार के रूप में वितरित किया जायेगा।


डीपीओ ने बताया कि पूर्व की भांति ही नवीन ड्राईराशन भी कलर कोडेड होगा। गर्भवती व धात्री के लिए पीला, 6 माह से 3 वर्ष के बच्चों के लिए आसमानी नीला, 3 वर्ष से 6 वर्ष तक के बच्चों के लिए हल्का हरा, किशोरियों के लिए गुलाबी व अति कुपोषित बच्चों के लिए लाल रंग की पैकेजिंग में ड्राई राशन को वितरण विभाग व आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के सहयोग से कराया जायेगा।


Comments