सेंचुरी रेयान कंपनी के प्रबंध संचालक के ऊपर चाकू से जानलेवा हमला


रिपोर्ट : प्रमोद कुमार


कल्याण : सेंचुरी रेयान कंपनी के प्रबंध संचालक अध्यक्ष ओमप्रकाश रामलाल चितलांगे पर कोरोना काल मे आर्थिक मंदी की मार झेल रहे कंपनी के मजदूर अरुण मसंद ने चाकू से जानलेवा हमला किया।  गौरतलब है कि रेयान स्पिनिंग मेंटेनेंस में कार्यरत अरुण मसंद नामक मजदूर लॉकडाउन और कोविड काल के चलते आर्थिक मंदी से परेशान था। पिछले कुछ महीनों से कर्मचारियों को समय पर वेतन नहीं मिलने के कारण फैक्ट्री में काम करने वाले लगभाग सभी मजदूरों की माली हालत खराब हो रहीं है। इसी के मद्देनजर अरुण मसंद ने अपनी और साथियों की खराब हालात को देखते हुए गुस्से में मौका मिलते ही फैक्ट्री के अंदर मुख्य कार्यालय के बाहर, मीटिंग हाल से आये प्रबंध संचालक चितलांगे पर धारधार चाकू से ताबड़तोड़ हमला कर दिया। इस हमले में चितलांगे को गंभीर चोटें आई है। उनका कंपनी के सेंचुरी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया।


सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार वहां मौजूद सिक्योरिटी गार्ड गाडगे को भी बीच बचाव करने के कारण चाकू से चोट लगी है। कुछ ही दूरी पर खड़े यूनियन के अनिल अग्रवाल ने भागते हुए अरुण को पकड़ने की कोशिश की और चाकू छिनने की कोशिश की। साथ ही मौजूद राजेश भोईर, कमलेश सिंह, विश्वनाथ पाटिल, वहां मौजूद सुरक्षाकर्मी आदि लोगों ने अरुण मसंद को पकड़ लिया और उसकी जमकर धुलाई कर दी। जिससे उसकी हालत भी नाजुक हो गई है और उसे इलाज के लिए उल्हासनगर के सेंट्रल हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। कम्पनी में इस बड़ी घटना का मिलाजुला असर देखने को मिल रहा है। जहां कुछ लोगों ने इस घटना की निंदा की है, वही दूसरी तरफ कुछ लोगों का बोलना है कि लोग परेशान है क्योंकि कंपनी समय पर वेतन नहीं दे रही है। आर्थिक मंदी का हवाला देते हुए सेंचुरी कंपनी मैनेजमेंट ने फैक्ट्री से लगभग 500 कामगारों को काम से निकालने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी है।


Comments