लूट लिया पांच लाख, हाल गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई का


रिपोर्ट : संस्कार सिंह


मीरजापुर, (उ.प्र.) : जल निगम विभाग के प्रस्तावित कार्यों का अवलोकन करने पहुंचे संयुक्त प्रबन्ध निदेशक संजय खत्री ने ढाई साल में महज चालीस प्रतिशत कार्य किए जाने पर असंतोष जताया । इस दौरान विभाग में मची लूट का चिठ्ठा भाजपा प्रदेश कार्य समिति सदस्य मनोज श्रीवास्तव की ओर से सौंपा गया । श्री ख त्री ने गंभीर प्रकृति के आरोपों की जांच कराने का आश्वासन दिया । 


जिले में सेवारत तमाम विभाग प्रदेश सरकार को बदनाम करने की साज़िश में लगे हैं । उनमें से एक गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई विभाग होड़ में सबसे आगे चल रहा है । पत्रक में कहा गया है कि जिले के लोगों को दर किनार कर अपने रिश्तेदारों के माध्यम से विभाग में खुलेआम लूट मची है । चर्चा हैं कि सौ फीट लंबे चौड़े लान का घास काटने के नाम पर पांच लाख खर्च कर दिया गया । इतना ही नहीं आधा किलोमीटर की सड़क बनवाने और बरसात में कार्यालय की पुताई कराकर लूट की गई हैं । बिना टेंडर के ही गिरोह बनाकर अपने रिश्तेदारों और गैर जनपद के लोगों को बुलाकर कार्य बांटा जा रहा है । जबकि विभाग में वर्षों से कार्य करने वालों को दरकिनार कर दिया गया है । विभाग के किसी भी कार्य में सरकारी मंशा और गुणवत्ता का पालन नहीं किया जा रहा है । विभाग में जनहित के बजाय स्वहित चरम पर है । विभाग में कागजों पर हेराफेरी कर सरकारी धन की लूट मची है । पत्रक सौंपने वालों में पारस मिश्र, सुशील कुमार, मधुकर एवं आलोक मिश्र शामिल थे ।


Comments