एपीएमसी में ब्राजील और स्पेन का हापुस दाखिल


रिपोर्ट : प्रमोद कुमार


नवी मुंबई : एपीएमसी में ब्राजील और स्पेन का हापुस दाखिल हो गया है। कोरोना काल में हर व्यक्ति अपना रोग प्रतिकार की क्षमता को बढ़ाने में जुटा है। इसके लिए अपने आहार में फलों का समावेश कर उसका सेवन कर रहे हैं। लोग ज्यादा से ज्याद सेवन करने लगे हैं। यही कारण है कि वाशी स्थित एपीएमसी की मल मंडी में विदेशों से आयात किए जा रहे फलों की मांग बढ़ गई है अब फल मंडी में ब्राजील और स्पेन के हापुस आम का आयात शुरू किया गया है। जिसकी पहली पेटी मंडी में आई है। वाशी स्थित फल मंडी में ब्राजील और स्पेन से हापुस आम का आवक हुआ है। एक पेटी में दस आमो का समावेश है जिसकी कीमत साढ़े 4 हजार रुपए है स्पेन और ब्राजील के इस हापुस का आयत थोक व्यापारी तानाजी शिंदे ने किया है। इसके साथ ही ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, साऊथ अफ्रीका, ईरान, तुर्की, चाइना, बेल्जियम, कैर्लिफोर्निया जैसे देशों से भी फलों का आयात किया जा रहा है। इनमें स्पेन से हापुस, किवी, ब्लू बेरी, अंगूर आदि फलों का समावेश है। इन फलों की कीमत महंगा भी है। विदेशी फलों की तुलना में देशी फल सस्ते है। वर्तमान में वाशी मंडी में सबसे अधिक देशी सेव ही बिक रहा है। कुछ विदेशी फलों की मांग अधिक होने के कारण विदेशी फलों का आयत किया जा रहा है। एपीएमसी फल मार्केट के संचालक संजय पानसरे के माने तो इस विदेशी हापुस का स्वाद तोता पूरी आम जैसा है। इस विदेशी हापुस का चर्चा है लेकिन जिस तरह होना चाहिए उस तरह का मांग नहीं है।


Comments
Popular posts
Mumbai : ‘काव्य सलिल’ काव्य संग्रह का विश्व पर्यावरण दिवस पर विमोचन और सम्मान पत्र वितरण समारोह आयोजित
Image
New Delhi :पर्यावरण संरक्षण महत्व व हमारा अस्तित्व पर 'एम वी फाउंडेशन' द्वारा विराट कवि सम्मेलन का आयोजन
Image
Mumbai : महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमिटी पर्यावरण विभाग के प्रदेश उपाध्यक्ष साहेब अली शेख, मुंबई अल्पसंख्यक अध्यक्ष व नगर सेवक हाजी बब्बू खान, दक्षिणमध्य जिलाध्यक्ष हुकुमराज मेहता ने किया वृक्षारोपण
Image
मानव पशु के संघर्ष पर आधारित फिल्म 'शेरनी' मेरे दिल के करीब है – विद्या बालन
Image
पावस ऋतु के स्वागत में ‘काव्य सृजन’ की ‘मराठी काव्य’ गोष्ठी
Image