दुर्व्यवस्थाओं के बीच नवरात्र के दूसरे दिन लगभग सवा लाख श्रद्धालुओं ने किया माँ का दीदार


रिपोर्ट : बृजेश गोंड


मीरजापुर, (उ0प्र0) : शारदीय नवरात्र के दूसरे दिन लगभग सवा लाख श्रद्धालुओं ने माँ विन्ध्यवासिनी का दर्शन किया। नवरात्र का दूसरा दिन दर्शनार्थियों व दुर्व्यवस्थाओं के नाम रहा। प्रथम दिवस की अपेक्षा दूसरे दिन भीड़ में लगभग तीन गुना की वृद्धि देखी गई। तो दूसरी तरफ पानी की संकट ने दर्शनार्थियों को परेशानी में डाल दिया। सुबह से ही मेलाक्षेत्र के कई हिस्से में पानी सप्लाई बाधित रही, बाद में जानकारी प्राप्त हुई कि विन्ध्याचल क्षेत्र के सत्तर फीसदी लोगो को जलापूर्ति करने वाला कोतवाली स्थित नलकूप का मोटर जल गया, जो जिला प्रशासन द्वारा मेला तैयारियों को आइना दिखा रही थी।


विद्युत आपूर्ति भी कई बार थोड़े थोड़े समय के लिए बाधित रही। फ़िलहाल इन दुर्व्यवस्थाओं का असर दर्शनार्थियों की अटूट श्रद्धा पर पड़ता नही दिखा। भोर से ही दर्शनार्थियों की भीड़ माँ के जयकारे के उदघोष के साथ गलियों व घाटों पर दिखाई पड़ रही थी। जिला प्रशासन द्वारा कुछ महीने पूर्व पुरानी व्हीआईपी मार्ग से फाइवर सेड हटा दिया गया था। जिसके फलस्वरूप दर्शनार्थी कड़ी धूप में छाया के लिए परेशान दिखाई दे रहे थे। मानव दूरी का पाठ पढ़ाने के लिए ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मी खुद इसका मज़ाक उड़ाते दिखे, विन्ध्यवासिनी मन्दिर पर इकट्ठे इकट्ठे बैठकर फुर्सत के पलों का आनंद उठाते रहे। त्रिकोण मार्गो पर प्रकाश व्यवस्था नाकाफी रही। रात्रि के दौरान त्रिकोण यात्रा पर गए कुछ श्रद्धालुओं ने बताया कि, कम रोशनी के चलते नंगे पाँव चलने में काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा।


Comments