डॉलर में मजबूती; डब्ल्यूटीआई क्रूड में आई 0.7% की कमी


मुंबई : डॉलर में मजबूती और महामारी के व्यापक असर के बीच डब्ल्यूटीआई क्रूड मामूली रूप से 0.7% तक कम हो गया, जिसने तेल की कीमतों पर और दबाव डाला। एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के रिसर्च नॉन एग्री कमोडिटी एंड करेंसी एवीपी श्री प्रथमेश माल्या ने बताया के लीबिया के सबसे बड़े शरारा ऑयल फील्ड में उत्पादन फिर शुरू होने से ग्लोबल सप्लाई से जुड़ी चिंताओं में बढ़ोतरी हुई है, लेकिन मांग कमजोर होने से संभावनाएं भी क्षीण होती जा रही हैं। महामारी के कारण जो उथल-पुथल मची है, उसके कारण ओपेक ने क्रूड ऑयल की कमजोर मांग में सुधार का अनुमान लगाया।


चीन के कच्चे तेल के आयात में 17.5% की वृद्धि हुई और सितंबर 2020 में 11.8 मिलियन बैरल प्रतिदिन बढ़ गया क्योंकि कुछ कार्गो ने कस्टम क्लियर किया है। दुनिया के टॉप ऑयल कंज्यूमर में क्रूड की बढ़ती मांग ने उसे होने वाले नुकसान को सीमित कर दिया।


यू.एस. एनर्जी इंफर्मेशन एडमिनिस्ट्रेशन ने रिपोर्ट किया कि अमेरिकी ऑयल इन्वेंट्री में 3.8 मिलियन बैरल की गिरावट दर्ज की, जिसने क्रूड की कीमतों का समर्थन किया। इसके अलावा, अमेरिका में नए कोरोना रिलीफ बिल की उम्मीदों ने क्रूड की कीमतों को समर्थन मिल सकती है।


Comments