दक्षिण भारतीय समाज ने किया डॉ. एस. अण्णा मालाई को एमएलसी बनाने की मांग


रिपोर्ट : यशपाल शर्मा


मुंबई : राज्य भर में विभिन्न जगहों में बसे दक्षिण भारतीय समाज पिछले कई पीढ़ियों से महाराष्ट्र के विभिन्न जगहों विशेषकर मुंबई महानगर में रह रहे है। लेकिन इस समाज को अभी तक प्रतिनिधित्व करने वाला वर्तमान राज्य की महाविकास आघाडी सरकार के मुख्यमंत्री उद्धाव ठाकरे ने अपनी पार्टी की ओर से अभी तक नही दिया। जिससे दक्षिण भारतीय समाज राजनीतिक गलियारे में अपने आपको ठगा सा महसूस कर रहा है।


महाराष्ट्र मुंबई में  रह रहे तकरीबन राज्य भर में 40 लाख दक्षिण भारतीय समाज के लोग व मुंबई में 20 लाख के करीब आबादी है। कहा जाता है कि यह दक्षिण भारतीय समाज अभी तक विभिन्न राजनीतिक पार्टियों को राज्य से लेकर केंद्र की सत्ता में चुनावों जितवाकर अहम रोल निभाया है। केंद्र में चाहे बीजेपी हो तो भी महाराष्ट्र में शिवसेना को जितवाने में दक्षिण भारतीय समाज ने एक होकर डॉ. एस. अण्णा मालाई के नेतृत्व में शिवसेना को राज्य से लेकर राष्ट्रीय स्तर पर मजबूत करने का कार्य कर रहे है।


दक्षिण भारतीय समाज के विभिन्न सामाजिक संस्थाओं का प्रतिनिधित्व करने वाले तामिरदारो से जब दक्षिण भारतीय समाज को प्रतिनिधित्व देने को लेकर राय अखबार के पत्रकार ने जाननी चाही तो राजा इलांगो अध्यक्ष मुंबई नाडर संगम के अनुसार महाराष्ट्र में अभी तक दक्षिण भारतीय समाज को सत्ताधारी शिवसेना सरकार की ओर से समाज का प्रतिनिधित्व करने वाला कोई दक्षिण भारतीय नेता नहीं दिया है। लोकसभा चुनावों से लेकर विधानसभा चुनावों में हमने पूर्व में भी शिवसेना प्रमुख व वर्तमान में राज्य सरकार के मुख्यमंत्री उद्धाव ठाकरे को राज्य के 55 संगठनों ने डॉ.एस. अण्णा मालाई के समर्थन में मुख्यमंत्री को पत्र सौंपा था कि एक बड़ा पद दिया जाये, ताकि अपने 40 लाख के करीब दक्षिण भारतीय समाज की जनसंख्या की हर एक समस्याओं को राज्य सरकार के समक्ष लाकर सुलझाने का कार्य करें।


वहीं दूसरी ओर मुंबई यादव महासभा के अध्यक्ष ई लक्ष्मण ने डॉ.एस. अण्णा मालाई को राज्य की उद्धाव सरकार को एमएलसी की सीट दक्षिण भारतीयों का प्रतिनिधित्व करने के लिये दिये जाने की मांग की है, क्योंकि डॉ.एस. अण्णा मालाई दक्षिण भारतीय समाज के लिये कोई भी काम के लिये कही भी जाने को तैयार रहता है। ट्रैन पैसेंजर एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. एस. अण्णा मालाई ने अपने दौड़ धूपकर के दक्षिण भारतीय समाज के लिये शिवसेना में आने से पहले 7 ट्रैन चालू करवाकर समाज के लिये दे चुके है।


देश की राष्ट्रीय राजनीतिक पार्टी ने दक्षिण भारतीय समाज को प्रतिनिधित्व देते हुए बीजेपी ने सायन- कोलीवाड़ा से एक विधायक तमिल सेलवन दिया। वहीं दूसरी और कांग्रेस पार्टी ने रवि राजा को दिया, तो शिवसेना क्यों नही अभी तक डॉ. एस. आणा मालाई को एमएलसी, महामंडल की कमेटियों में जगह उपलब्ध करवाकर देती है। पेरुमल थाने तमिल संगम के महासचिव के अनुसार दक्षिण भारतीय समाज को शिवसेना अनदेखा नही कर सकती है। डॉ. एस. अण्णा मालाई के शिवसेना में जुड़ते ही राज्य भर के 40 लाख दक्षिण भारतीय समाज जुड़ चुका है। लोकसभा, विधानसभा चुनावों में जहां निर्णायक भर भराकर वोट दिया है। उसी की तर्ज पर एक वर्ष बाद मुंबई महानगर पालिका के होने वाले चुनावों में दक्षिण भारतीय समाज ज्यादा से ज्यादा सीटें जिताकर देंगे ऐसा वायदा किया है। वही सारे मामले में जब पत्रकार ने डॉ. एस. अण्णा मालाई की राय जानने की कोशिश किया तो उन्होंने कहा कि पिछले विधानसभा चुनावों में चाँदीवाली विधानसभा में टिकट न मिलने से दक्षिण भारतीय समाज नाराज हो गया था, पर उनके पास जाकर सामझने पर कहा कि उद्धाव ठाकरे साहेब अपना वायदा पूरा करेंगे।


Comments