ट्रांसफार्मर के अचानक हुए विस्फोट में बुरी तरह से झुलसी महिला, इलाज के दौरान हुई दर्दनाक मौत


महावितरण ने जाँच के दिए आदेश


रिपोर्ट : प्रमोद कुमार


पुणे : नए से लगाये गए ट्रांसफार्मर के अचानक हुए विस्फोट में बगल के घर के आंगन में अपनी पांच माह की नातिन को नहला रही नानी बुरी तरह से झुलस गए। अस्पताल में इलाज के दौरान उनकी दर्दनाक मौत हो गई। पिंपरी चिंचवड़ के भोसरी इंद्रायणी नगर में शनिवार की दोपहर हुए इस हादसे में बच्ची की मां भी गंभीर रूप से झुलस गई है। महावितरण ने राज्य सरकार के जिला बिजली निरीक्षक के जरिये इस मामले की जांच शुरू की गई है। मृतकों को 4-4 लाख रुपए की आर्थिक मदद की घोषणा करते हुए ट्रांसफार्मर सप्लायर एजेंसी के साथ इस मामले के दोषी अधिकारियों और कर्मचारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी भी दी गई है। भोसरी के इंद्रायणी नगर के राजवाड़ा इलाके में हुए इस हादसे में मरनेवालों के नाम शारदा दिलीप कोतवाल (51) और उनकी नातिन शिवानी सचिन काकडे (5 माह) है। उनके शिवानी की मां हर्षदा सचिन काकडे (32) इस हादसे में गंभीर रूप से घायल हुई हैं। उनका पुणे के ससून हॉस्पिटल में इलाज जारी है।


प्राप्त जानकारी के अनुसार राजवाड़ा इलाके की बिल्डिंग नँबर 3 के पास महावितरण की ओर से नया ट्रांसफार्मर लगाया गया है। इसके बगल में दिलीप कोतवाल का घर है। बेटी के जन्म के बाद उनकी बेटी हर्षदा अपने मायके आयी हुई है। बीती दोपहर घर के आंगन में शारदा अपनी नातिन को नहला रही थी। इसी बीच अचानक से ट्रांसफार्मर में अचानक विस्फोट हुआ और उसमें से खोलता हुआ ऑइल उड़कर शारदा और उनकी बेटी व नातिन पर गिरा। इसमें वे तीनों गंभीर रूप से झुलस गए। जब यह हादसा हुआ दिलीप कोतवाल और उनका बेटा दोनों भी घर पर नहीं थे। पड़ोसियों से तीनों को भोसरी के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया। प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें पुणे के ससून हॉस्पिटल ले जाया गया। इलाज के दौरान रात में नानी औऱ नातिन दोनों की मौत हो गई। जबकि हर्षदा जोकि इस हादसे में बुरी तरह से झुलस गई हैं, का इलाज जारी है।


स्थानीय नगरसेविका नम्रता लोंढे ने मीडिया को बताया कि, शुक्रवार की शाम छह बजे यहां के ट्रांसफार्मर में आग लगी थी। इसके चलते कुछ इलाका अंधेरे में था। दमकल विभाग द्वारा आग बुझाने के बाद महावितरण ने दूसरा ट्रांसफार्मर लाकर लगाया। हालांकि यह भी पुराना ही था जो शनिवार के तड़के पांच बजे तक शुरू किया गया। उसके बाद दोपहर में यह हादसा हुआ। एमआईडीसी भोसरी पुलिस थाने के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक राजेंद्र कुंटे ने बताया कि इस मामले में जांच शुरू है उसके पूरा होने के बाद मामला दर्ज कर उचित कार्रवाई की जाएगी। इस बीच महावितरण ने मीडिया को इस हादसे के बारे में एक बयान जारी किया। इसमें कहा गया है कि, हादसे में मारे गए लोगों के परिवार को चार- चार लाख रुपए की आर्थिक मदद दी जाएगी। साथ ही हादसे में घायल हर्षदा के परिवार को भी आर्थिक मदद उपलब्ध कराई जाएगी। राज्य सरकार के बिजली निरीक्षक के जरिए विस्फोट की जांच शुरू की गई है। उसकी रिपोर्ट के मुताबिक दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इसके अलावा महावितरण की ओर से तीन सदस्यीय समिति जांच में जुट गई है। इस मामले में संबंधित अधिकारियों को शो कॉज नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया है। जिस ट्रांसफार्मर में विस्फोट हुआ वह कुछ घँटे पहले ही लगाया गया था। उसकी सप्लाई करनेवाली एजेंसी को भी नोटिस जारी की गई है।


Comments