Mirzapur : जिला पंचायत सभागार में पोषण अभियान की शुरूआत करेंगे जिलाधिकारी


पोषण के विषय पर जागरूक करने का कार्य करेगा विभाग


रिपोर्ट : टी.सी.विश्वकर्मा


मीरजापुर, (उ.प्र.) : कुपोषण के खात्मे के लिए विभाग द्वारा हर वर्ष की भाति इस वर्ष भी सितम्बर माह को पोषण अभियान के रूप में मनाया जायेगा। लेकिन पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के निधन को लेकर पोषण सम्बन्धी सभी कार्यक्रमों को रोक दिया गया। अब पोषण अभियान की शुरूआत जिले में कल से जिलाधिकारी व जिला कार्यक्रम अधिकारी की मौजूदगी में जिला पंचायत सभागार से शुरू किया जायेगा। इसके अलावा जिले में बाल विकास परियोजना अधिकारी अपने-अपने परियोजना केन्द्र पर शुरूआत करेगे।


जिला कार्यक्रम अधिकारी पी0के0 सिंह ने बताया कि हर वर्ष सितम्बर माह को पोषण माह के रुप में मनाया जाता है। इस वर्ष भी 07 सितम्बर से पोषण माह का आयोजन किया जायेगा जो पुरे माह तक चलेगा। यह आयोजन एक सितम्बर से ही होना था लेकिन पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के निधन के कारण इसे 7 सितम्बर से शुरू किया जायेगा। कोविड.19 प्रोटोकाल का पालन करते हुये आंगनबाड़ी कार्यकर्ता गर्भवती व धात्री महिलाओं एवं स्कूल न जाने वाली किशोरियों और उनके अभिभावकों को कुपोषण से बचाव के बारे में जागरुक करेगीए साथ ही साथ जिले के कुपोषित एवं अतिकुपोषित बच्चों को चिन्हित करने का काम करेगी।


कराई जाने वाली गतिविधियां



  • कुपोषित व अतिकुपोषित बच्चों का चिन्हीकरण किया जायेगा।

  • स्तनपान को बढ़ावा दिया जाए, इसके लिए माताओं को जागरूक किया जायेगा। स्तनपान से होने वाले फायदों को विस्तारपूर्वक बताने का कार्य किया जायेगा। स्तनपान के साथ उपरी आहार के बारे में भी जागरूक किया जायेगा।

  • परिवारों व समुदाय को किचन गार्डेन तैयार करने के लिए प्रोत्साहित किया जायेगा। किचन गार्डेन में पौष्टिक सब्जी व फलों के पौधे लगाने पर जोर दिया जायेगा। गमलों में पौधे अथवा टेरेस गार्डेन को भी प्रोत्साहित किया जायेगा।

  • जिले में होने वाली पोषण सम्बन्धी गतिविधियों को केन्द्र सरकार के पोर्टल पर अपलोड किया जाएगा।


जनपद में बच्चों की स्थिति
 
जिले में 5 वर्ष से कम बच्चों की सं0 281398 है। इसमें से 5736 बच्चे कुपोषित है। जबकि 32641 बच्चे कुपोषित है।


Comments