Mirzapur : दलित उत्पीड़न के बढ़ते मामलों के कारण प्रदेश में कानून व्यवस्था ध्वस्त : आम आदमी पार्टी

 



रिपोर्ट : आशीष गहलौत


मीरजापुर, (उ.प्र.) : आम आदमी पार्टी के नेतृत्व में प्रदेश में दलित उत्पीड़न के बढ़ते मामलों के कारण प्रदेश में कानून व्यवस्था ध्वस्त होने को लेकर राज्यपाल सम्बोधित जिलाधिकारी को पत्रक सौपा। जिसमें कार्यकर्ताओं ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि देशभर के समाचार पत्र में उत्तर प्रदेश की सरकार की कानून व्यवस्था का असलियत और उनके शासन की निरंकुश पुलिस के कारनामों से भरे पड़े हैं इस महान प्रदेश को और अपराध प्रदेश के नाम से बुलाया जा रहा है एनसीआरबी के डाटा के मुताबिक दलितों के प्रति महिलाओं के प्रति आपराधिक मामलों में यूपी पहले स्थान पर आता है यह बड़े शर्म की बात है कि देश के प्रधानमंत्री देश के पूर्व गृह मंत्री और आज के रक्षा मंत्री के उत्तर प्रदेश से चुनकर जाने के बावजूद या प्रदेश हिंसा और अपराध के मामलों में झुलस रहा है जनता में भय और असुरक्षा का माहौल बना हुआ है यहां के बेखौफ अपराधियों से ना तो आम जनमानस सुरक्षित है नहीं पत्रकार ना ही पुलिस वाले स्वयं साफ दिखाई दे रहा है सबसे गंभीर प्रकरण उत्तर प्रदेश के रायबरेली जिले के लालगंज में एक रिक्शा चालक युवक मोहित को पुलिस उठा कर थाने ले जाती है जहां उसको जानवरों की तरह पीटा जाता है यातनाएं दी गई जिसमें उसकी मौत हो गई इस युवक के पिता का पहले ही देहांत हो चुका है इस बर्बरता की हम कड़ी निंदा करते है। पार्टी के कार्यकर्ताओं ने सरकार को एक मांग पत्र सौंपा जिसमें रायबरेली कांड में शामिल संबंधित थाने के सभी पुलिस वालों पर हत्या का मुकदमा दर्ज किया जाए इसी के साथ दूसरी मां पुलिस अधीक्षक रायबरेली बरेली को निलंबित किया जाए इसी के साथ तीसरी मांग मोहित के परिवार व मां के सहारे के लिए पचास लाख का मुआवजा दिया जाए इसी के साथ चौथी मांग आगरा हरदोई आजमगढ़ का सत्यमेव जयते कांत सहित प्रदेश भर के तमाम हलिया और पूर्व के लंबित दलित उत्पीड़न के मामलों की उच्च स्तरीय जांच की जाए इन जांच की प्रगति से जनता को अवगत कराया जाए और ऐसे सभी मामलों का निपटारा फास्ट ट्रैक कोर्ट में किया जाए इस मौके पर व्यास मुनि तिवारी संतोष यादव मनीष तिवारी कुलदीप तिवारी आदि लोग सैकड़ों कार्यकर्ता मौजूद रहे।


Comments