एएमपी ने भारत का पहला फ्री मेंटरिंग और स्कॉलरशिप के लिए फ्री क्राउड फंडिंग प्लेटफॉर्म लॉन्च किया !


मेंटरशिप से हम मुसलमानों की उच्च शिक्षा में जिन दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है, उनका समाधान कर सकते हैं - आमिर इदरीसी


मुंबई : शिक्षक दिवस पर, शिक्षा और आर्थिक सशक्तीकरण के क्षेत्र में काम करने वाली एक गैर-लाभकारी संस्था एसोसिएशन ऑफ मुस्लिम प्रोफेशनल्स (एएमपी) ने 2 महत्वपूर्ण पहल शुरू करने की घोषणा की है जिसका छात्रों को फायदा मिलेग जिन्हें विशेष रूप से उच्च शिक्षा या विशेषज्ञ कैरियर के लिए वित्तीय सहायता चाहिए उन्हें द्योग के पेशेवरों द्वारा व्यावसायिक मार्गदर्शन दिया जाएगा ।


लॉन्च की गई दो नई पहल ये हैं



  • भारत की पहली फ्री हायर एजुकेशन स्कालरशिप क्राउड फंडिंग प्लेटफार्म (IndiaZakat.com/Scholarships)

  • जरूरतमंद छात्रों के मार्गदर्शन के लिए फ्री मेंटरशिप प्रोजेक्ट (TheIndiaMentors.com)


डॉ एम असलम पारवेज़, पूर्व कुलपति - मौलाना आज़ाद नेशनल उर्दू यूनिवर्सिटी (MANUU) ने आयोजित कार्यक्रम में कुरान की आयात और हिदायत पर रोशनी डाली। उन्होंने कहा "कुरान हमें सिर्फ खुदा की इबादत करने के लिए ही नहीं बल्कि हर तरह से एक दूसरे की मदद करने के लिए भी है।"  उन्होंने कहा कि "हमें धार्मिक प्रथाओं का गुलाम नहीं होना चाहिए, और कुरान पाक के वास्तविक अर्थ को समझना चाहिए और कौम के रूप में आगे बढ़ने के लिए हमें जीवन में कुरान में जो हिदायत दी गयी है उनके साथ ज़िन्दगी बसर करनी चाहिए।“ एएमपी-अध्यक्ष, आमिर इदरीसी ने वेबिनार शुरू किया और प्रतिभागियों का स्वागत किया। उन्होंने कहा, "एएमपी के लिए यह बहुत ही ऐतिहासिक दिन है क्योंकि हमने आखिरकार छात्रवृत्ति फंडिंग और मेंटरशिप प्रोजेक्ट के माध्यम से छात्रों की मदद और मार्गदर्शन करने के अपने सपने को साकार किया है। सरकार, कॉरपोरेट्स, उच्च शैक्षणिक संस्थानों में मुसलमानों का प्रतिनिधित्व बहुत कम है और ये पहल इस को बढ़ाने के इरादे से की गई है। ” उन्होंने कहा कि "मुस्लिम समुदाय के एक बड़े हिस्से के लिए, उनकी सामाजिक-आर्थिक स्थितियों के कारण, बुनियादी जरूरतों को शिक्षा पर प्राथमिकता देनी चाहिए। हमें शिक्षा के महत्व के बारे में जागरूकता पैदा करने और अपने जीवन में इसकी प्राथमिकता में सुधार करने की आवश्यकता है।”


प्रो. फुरकान क़मर, प्रोफेसर - सेंटर फ़ॉर मैनेजमेंट स्टडीज़, जामिया मिलिया इस्लामिया (JMI) ने कहा कि कौम को केवल उच्च शिक्षा ही नहीं बल्कि बुनियादी शिक्षा के बारे में भी आश्वस्त होना होगा। जो सबसे ज़्यादा ज़रूरी है वो कौम की सोच बदल के हमे जो लोग अच्छा कर रहे है उनका हौसला अफजाई की जानी चाहिए।


यूनाइटेड किंगडम से ज़ाहिद हावलादार, डिलीवरी हेड, 1 मिलियन मेंटर्स ने बोलते हुए कहा, “जो लोग अच्छे पढ़े हुए और एक दूसरे से जुड़े हुए थे उनको अच्छा गाइडेंस मिला जिससे उनको अच्छी एजुकेशन मिली। ये हमारी बदकिस्मती है कि हमारी कौम में मेंटरशिप और गाइडेंस की कमी है। इसलिए मेंटरशिप ऐसी एक पहल है जो यह सुनिश्चित करेगी कि स्कूलों और कॉलेजों से बहुत कम ड्रॉपआउट हो और यह हम लोगो के बीच नफरत को भी कम करेगा। यह हमारे जीवन में भी प्रभावशाली और परिवर्तनकारी सिद्ध होगा। ”


नागमा मुल्ला, अध्यक्ष और सीओओ-एडेलगिव फाउंडेशन ने कहा, “आज के वंचित और आत्मनिर्भर लोगों के बीच का अंतर ‘डिजिटल डिवाइड’ है। जो लोग डिजिटल रूप से अधिक उन्नत थे, वे महामारी की स्थिति को बेहतर तरीके से प्रबंधित कर रहे हैं और यह अधिक शिक्षित होने का परिणाम है।” उन्होंने कहा कि “आज की पोस्ट- # कोविड-19 दुनिया में, जहां सरकारें और अर्थव्यवस्थाएं बुरी तरह प्रभावित हैं, यह सभी अधिक आवश्यक है कि छात्रों और उनके माता-पिता को वित्तीय के साथ-साथ कैरियर डोमेन में सहायता और समर्थन दिया जाए। एएमपी की ये पहल कौम की मदद करेगी। ”


ये पहल आज भारत और ग्लोब के सभी हिस्सों में भाग लेने वाले दर्शकों के साथ एक विशेष वेबिनार में शुरू की गई। हायर एजुकेशन स्कालरशिप क्राउड-फंडिंग एएमपी (www.indiazakat.com) प्लेटफॉर्म पर की जाएगी, जो भारत का एक अनूठा डिजिटल प्लेटफॉर्म है, जो डोनर्स और सीकर्स को जोड़ता है। 4 महीने पहले ही लॉन्च किया गया, IndiaZakat.com पहले ही 80 लाख से अधिक जुटा चुका है और विशेष रूप से शिक्षा क्षेत्र में जरूरतमंद लोगों की मदद कर रहा है।


आज लॉन्च किया जाने वाला फ्री मेंटरशिप प्रोजेक्ट (www.theindiamentors.com) एएमपी के एक लंबे सपने की नतीजा है, जिसके लिए 2012 की शुरुआत में सोचा गया था। हालांकि, भारत में ‘मेंटरशिप’ का महत्व इसके विपरीत काफी कम है। इसलिए एक टीम के गठन में काफी समय लगा, जो परियोजना को संभाल और चला सकती थी। TheIndiaMentors.com उद्योग के विशेषज्ञ पेशेवरों के साथ-साथ शिक्षाविदों द्वारा बिना किसी शुल्क के एकेडमिक के साथ-साथ कैरियर या रोज़गार के मुद्दों के लिए छात्रों का मार्ग दर्शन करेगा। हफीज इकबाल (पूर्व निदेशक, एलएंडडी, फाइजर) द्वारा स्वागत नोट दिया गया और शहजाद मुकदम और हुमेरा कबीर ने इस कार्यक्रम की मेजबानी की। इसके बाद वेबिनार को एजुकेशन 2020 में उत्कृष्टता के लिए 4 वें एएमपी राष्ट्रीय पुरस्कारों की घोषणा की गई जिसमें देश भर में 103 शिक्षकों को राष्ट्र निर्माण में मदद के लिए सम्मानित किया गया।


एसोसिएशन ऑफ मुस्लिम प्रोफेशनल्स (एएमपी) सभी पेशेवरों और स्वयंसेवकों के लिए न केवल समुदाय बल्कि बड़े पैमाने पर समाज के समग्र विकास के लिए अपने ज्ञान, बुद्धि, अनुभव और कौशल को साझा करने के लिए एक मंच है, जो शैक्षिक, सामाजिक रूप से वंचित लोगो को सामाजिक और आर्थिक मोर्चे पर आगे करने के लिए सशक्त है। एएमपी अपने विभिन्न प्रोजेक्ट्स में हाथ और पार्टनर एएमपी को मिलाने के लिए दुनिया भर के प्रोफेशनल और ऑर्गनाइजेशन को इनवाइट करता है।


Comments