ए जांवाज, तुम्हें शत शत नमन है..

 


- सतीश वशिष्ट


ए जांवाज, तुम्हें शत शत नमन है..


क्या शौक तेरा, सर पर बांधा कफ़न है...


 


जान गंवाते हो अपनी, मेरे चैन की ख़ातिर,


फक्र करता तुम पर आज यह सारा वतन है....


क्या शौक तेरा, सर पर बांधा कफ़न है.......


 


ठंड सायचिन की हो जा धूप बीकानेर की ....


सरहदें ही गुलशन तेरे, सरहदें ही तेरा चमन हैं ....


क्या शौक तेरा, सर पर बांधा कफ़न है......


 


हर शाम राह तकती तेरा जो.....


कोई वीरांगना, जो, इक रात की दुल्हन है....


क्या शौक तेरा, सर पर बांधा कफ़न है.....


 


जीने की चाहत दुनियां को,


तुझे मौत की ही लगन है,


सारा जहां देखने को आया,


तिरंगे में लिपटा जो तेरा बदन है.....


क्या शौक तेरा, सर पर बांधा कफ़न है....


 


तू मर कर भी अमर है, ए वीर इस जहां में ,


शहादत को तेरी भुलाना कठिन है....


क्या शौक तेरा सर पर बांधा कफ़न है..…..


 


ए जांवाज, तुम्हें शत शत नमन है..


ए जांवाज, तुम्हें शत शत नमन है.....


Comments
Popular posts
सीएम उद्धव ठाकरे ने पूरे राज्य के लोगो को अगले 8 दिन सतर्क रहने को कहा है--वरना लॉक डाउन लगाने के संकेत भी दे दिए है
Image
आपसी विवाद में युवक घायल, मामला रफा-दफा करने मे जुटी थी पुलिस
Image
दादरा और नगर हवेली से लोकसभा सदस्य मोहन डेलकर मुंबई के एक होटल में पाए गए मृत, गुजराती में लिखा सुसाइड नोट बरामद
Image
बाल विकास विभाग की कारगर योजनाओं से ही कुपोषण से मिला मुक्ति, 2668 केन्द्रों पर पौष्टिक आहार के लिए बच्चों, महिलाओं व किशोरियों में आ रही जागरूकता
Image
महाराष्ट्र से कर्नाटक आने वालों को बिना कोरोना रिपोर्ट देखे एंट्री की गई बन्द !
Image