डिमांड को लेकर अनिश्चितता ने क्रूड की कीमत घटाई


मुंबई : सोमवार को कच्चे तेल का भाव 0.82 प्रतिशत घटकर लगभग 42.6 डॉलर प्रति बैरल रह गया। बाजार में तेल की कीमतें कम हो गई हैं।


एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के रिसर्च नॉन एग्री कमोडिटी एंड करेंसी एवीपी प्रथमेश माल्या ने बताया के ओपेक और सहयोगियों ने अगस्त 2020 के बाद उत्पादन में कटौती को 9.7 मिलियन बैरल प्रतिदिन से घटाकर 7.7 मिलियन बैरल प्रतिदिन करने की राह आसान कर दी है। वैश्विक बाजार में मांग नहीं है। कच्चे तेल की मांग में अनिश्चितता के साथ-साथ संक्रमण के नए मामलों ने कच्चे तेल की कीमत को काफी प्रभावित किया है। हालांकि, डॉलर की कीमत के कमजोर होने और चीन के सर्विसे सेक्टर को मजबूत करने से कच्चे तेल की कीमतों को सीमित करने में मदद मिली।


सोना: सोमवार को सोने की कीमतें 0.3 प्रतिशत बढ़कर 1969.8 डॉलर प्रति औंस पर आ गईं। कमजोर होते डॉलर ने अन्य मुद्रा धारकों के लिए सोना थोड़ा सस्ता कर दिया है, जिससे यह एक आकर्षक निवेश बन गया है। डॉलर के मूल्यों में कमी के अलावा अमेरिकी चुनावों से पहले यू.एस.-चीन के बीच बढ़ती दरार और व्यापक स्टिमुलस इंफ्यूजन की उम्मीदों ने पीली धातु की कीमतों का समर्थन करने वाले महत्वपूर्ण कारकों के रूप में काम किया।


अमेरिकी फेडरल रिजर्व के चेयरमैन जेरोम पॉवेल ने रोजगार को बढ़ावा देने और लक्षित मुद्रास्फीति दर हासिल करने के उद्देश्य से नई रणनीति का ड्राफ्ट तैयार किया है। इस रणनीति ने कम ब्याज दरों की ओर संकेत किया जिसने सोने की कीमतों को और बढ़ा दिया।


पीली धातु को पांच महीने में पहली बार नुकसान उठाना पड़ा है। एमसीएक्स पर सोने की कीमत 0.49 प्रतिशत की तेजी के साथ 57,701 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुई और आज यह और अधिक होने की उम्मीद है।


बेस मेटल्स: एमसीएक्स पर बेस मेटल की कीमतें थोड़ी कम हो गईं क्योंकि इस घटनाक्रम ने औद्योगिक धातुओं की मांग को कम किया है। फरवरी 2020 में इसकी गिरावट के बाद चीन के कारखानों में गतिविधियों में लगातार वृद्धि देखी गई है।


जैसा कि बुनियादी ढांचे और मैन्युफैक्चरिंग दोनों क्षेत्रों में गतिविधियां पूरे पैमाने पर शुरू हुई हैं, 2020 के शुरुआती महीनों में भारी गिरावट के बाद धातु की कीमतों में वृद्धि हुई थी। चीन की जिन स्टील कंपनियों ने अपना ऑपरेशन शुरू किया है, उनके कारण स्टील, जिंक और निकल की कीमत में उछाल आया है।


कॉपर: कॉपर सोमवार को 0.54% घटकर लगभग 527.5 रुपए प्रति किलो पर बंद हुआ। अमेरिकी चुनावों से पहले अमेरिका और चीन के बीच तनाव और बढ़ते दबाव ने तांबे की कीमत को प्रभावित किया है।


एलएमई वेरिफाइड गोदामों में तांबे की इन्वेंट्री 14 साल के निचले स्तर 89350 टन तक गिर गई। वैश्विक अर्थव्यवस्था के बीच तांबे की कीमतों में कमी के बीच कमजोर मांग की संभावनाएं हो सकती हैं। तांबे की कीमत आज कम हो सकती है।


For further information: Tushar 


Comments