अनिश्चित इकोनॉमिक रिकवरी ट्रेजेक्टरी ने कमोडिटी कीमतों को रखा नियंत्रण में


- प्रथमेश माल्या (रिसर्च नॉन एग्री कमोडिटी एंड करेंसी एवीपी, एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड)


पिछले हफ्ते कमोडिटी का प्रदर्शन कमजोर था। इसमें गोल्ड, क्रूड ऑयल और बेस मेटल्स लाल रंग में बंद हुए, जबकि कॉपर ने मामूली बढ़त हासिल की।


सोना: पिछले हफ्ते स्पॉट गोल्ड की कीमतें अमेरिकी डॉलर में रिकवरी के चलते 1.6 प्रतिशत कम हुई थीं और आर्थिक सुधार की उम्मीद ने सेफ हैवन यानी सोने के लिए अपील को कमजोर किया था। अमेरिकी डॉलर ने दो वर्ष के निचले स्तर के करीब रहने के बाद से रिकवरी की है, जिसने सोने को नीचे धकेल दिया। अमेरिका में बनी वस्तुओं के लिए नए ऑर्डर बढ़ने और अमेरिकी फैक्ट्री गतिविधियों में मजबूती आने से संभावित आर्थिक सुधार की उम्मीद जगी है। इंस्टिट्यूट फॉर सप्लाई मैनेजमेंट (आईएसएम) की रिपोर्ट के अनुसार अमेरिकी फैक्ट्री के आंकड़े अगस्त 2020 में 56 पर थे, जो जुलाई 2020 में 54.2 थे। पीली धातु के नुकसान सीमित रहे क्योंकि अमेरिकी फेडरल रिजर्व के अधिकारियों ने लंबे समय तक कम ब्याज वाले माहौल का संकेत दिया और इकोनॉमी को पटरी पर लाने में मदद करने के लिए आने वाले महीनों में और अधिक स्टिमुलस उपाय किए।


कच्चा तेल: पिछले हफ्ते डब्ल्यूटीआई क्रूड ऑयल 11 प्रतिशत से अधिक लुढ़क गया क्योंकि महामारी ने डिमांड को लेकर चिंता बढ़ा दी है। साथ ही अपेक्षित आर्थिक सुधार की गति धीमी रहने से भी कीमतों में गिरावट दर्ज हुई है। एनर्जी इंफर्मेशन एडमिनिस्ट्रेशन (ईआईए) के आंकड़ों के अनुसार पिछले हफ्ते अमेरिकी गैस और अन्य तेल उत्पादों की मांग कम हुई है। महामारी के व्यापक प्रभाव ने क्रूड का आउटलुक बदल दिया है क्योंकि वैश्विक तेल बाजार ने आर्थिक मंदी से उबरने के लिए संघर्ष किया है। तेल की कीमतों में गिरावट 28 अगस्त 2020 को खत्म हुए सप्ताह में यूएस क्रूड इन्वेंट्री लेवल में 9.4 मिलियन बैरल की गिरावट के बावजूद थी। हालांकि, अगस्त-2020 में यूएस और चीन की मैन्युफैक्चरिंग गतिविधियों को मजबूत करने और इराक ने अतिरिक्त उत्पादन कटौती की उम्मीद थी। आने वाले महीनों ने क्रूड के नुकसान को सीमित कर दिया। 


बेस मेटल्स: लंदन मेटल एक्सचेंज में बेस मेटल्स ने अमेरिकी डॉलर में रिकवरी के रूप में रेड जोन में ही हफ्ता ख़त्म किया और यू.एस. व चीन के बीच तनाव बढ़ने से कीमतों में गिरावट आई। इसके अलावा, अगस्त-2020 में लगातार दूसरे महीने के लिए यू.एस. पेरोल के आंकड़ों ने दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में कमजोर लेबर मार्केट का संकेत दिया जिससे औद्योगिक धातु की कीमतों में कमजोरी साबित हुई। हालांकि, चीन के बुनियादी ढांचे ने प्रोत्साहन पैकेजों पर ध्यान केंद्रित किया और मैन्युफैक्चरिंग और सर्विस सेक्टर में स्पष्ट सुधार ने औद्योगिक धातुओं के लिए नुकसान सीमित कर दिया। चीन के मैन्युफैक्चरिंग पर्चेज मैनेजर इंडेक्स (पीएमआई) ने दक्षिण-पश्चिमी चीन (नेशनल ब्यूरो ऑफ स्टेटिस्टिक्स के आंकड़ों के मुताबिक) में भयंकर बाढ़ के कारण जुलाई 2020 के 51.1 से अगस्त 2020 में 51.1 हो गया।


कॉपर: एलएमई कॉपर में 0.6 प्रतिशत की मामूली बढ़त दर्ज की गई वहीं लंदन मेटल एक्सचेंज में इन्वेंट्री के स्तर के रूप में 15 वर्षों में सबसे निचला स्तर था। हालांकि, चिली और पेरू से आने वाली सप्लाई चिंताओं को कम करने से कॉपर की कीमतों में बढ़ोतरी हुई।


Comments
Popular posts
Mumbai : ‘काव्य सलिल’ काव्य संग्रह का विश्व पर्यावरण दिवस पर विमोचन और सम्मान पत्र वितरण समारोह आयोजित
Image
Mumbai : महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमिटी पर्यावरण विभाग के प्रदेश उपाध्यक्ष साहेब अली शेख, मुंबई अल्पसंख्यक अध्यक्ष व नगर सेवक हाजी बब्बू खान, दक्षिणमध्य जिलाध्यक्ष हुकुमराज मेहता ने किया वृक्षारोपण
Image
New Delhi :पर्यावरण संरक्षण महत्व व हमारा अस्तित्व पर 'एम वी फाउंडेशन' द्वारा विराट कवि सम्मेलन का आयोजन
Image
मानव पशु के संघर्ष पर आधारित फिल्म 'शेरनी' मेरे दिल के करीब है – विद्या बालन
Image
पावस ऋतु के स्वागत में ‘काव्य सृजन’ की ‘मराठी काव्य’ गोष्ठी
Image