आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लाइफ ने गूगल असिस्टेंट पर एआई-पावर्ड वॉयस चैटबॉट किया लॉन्च


ठाणे, आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लाइफ इंश्योरेंस ने गूगल असिस्टेंट पर कस्टमर सर्विस चैटबोट LiGo की शुरुआत की है। इस सुविधा के माध्यम से कंपनी के पॉलिसी धारक  'OK Google, I want to speak to ICICI Prudential Life LiGo' or 'May I talk to ICICI Prudential Life LiGo'   जैसे सरल वायस कमांड्स देकर अपने सवालों के जवाब हासिल कर सकते हैं।


आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) जैसी डिजिटल तकनीकों का लाभ उठाते हुए कंपनी ने अपने इनोवेशन पोर्टफोलियो का विस्तार करते हुए अपने ग्राहकों के लिए एक और सुविधा उपलब्ध कराई है। गूगल असिस्टेंट को LiGo फंक्शनालिटी देना ग्राहकों के पसंदीदा प्लेटफॉर्म पर उन्हें और अधिक सुविधाएं उपलब्ध कराने की कंपनी की रणनीति का हिस्सा है, ताकि ग्राहक लेनदेन संबंधी बेहतर अनुभव हासिल कर सकें। ग्राहक अपने एंड्रायड स्मार्टफोन को सक्रिय करके और अपनी पॉलिसी का नंबर या पंजीकृत फोन नंबर बोलकर अपनी पाॅलिसियों के बारे में तुरंत जानकारी हासिल कर सकते हैं। यह उतना ही सरल है, जितना दिशाओं या ट्रैफिक के बारे में गूगल से पूछना।


वर्तमान दौर में निरंतर विकसित हो रहे डिजिटल युग में जहां गति, दक्षता और सुविधा लगातार बढ़ाई जा रही है, वहां लोग भी एआई-पावर्ड वॉयस असिस्टेंट को तेजी से अपना रहे हैं। गूगल असिस्टेंट ‘इंडियन इंगलिश‘ मंे उपलब्ध है और नौ भारतीय भाषाओं के समर्थन के साथ यह लोगों को गूगल के साथ संवाद कायम करने में सक्षम बनाता है, और उन्हें अपनी दुनिया में चीजों को स्वाभाविक और व्यक्तिगत रूप से प्राप्त करने में सहायता करता है।


आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लाइफ इंश्योरेंस के मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ श्री एन एस कन्नन कहते हैं,‘‘आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लाइफ में हमारे सभी इनोवेशन ग्राहकों को केंद्र में रखते हुए रचे जाते हैं। कुछ समय पहले हमने थ्री ‘वी‘ यानी वीडियो, वाॅयस एंड वर्नाकुलर के आधार पर अपनी हाइपर-पर्सनलाइजेशन यात्रा शुरू की थी। हमारे ग्राहकों की उभरती जरूरतों को पूरा करने के लिए हमने अपने ग्राहक सेवा वॉयस बोट LiGo को ‘गूगल असिस्टेंट‘ पर सक्षम किया है और इसे सभी प्लेटफार्मों और उपकरणों पर उपलब्ध कराया है। अपनी पाॅलिसी के बारे में वॉयस कमांड पर आधारित तकनीक के साथ जानकारी होने से ग्राहकों को बहुत सुविधा होती है और अपने सवालों के जवाब मिलने से उन्हें त्वरित संतुष्टि भी मिलती है। इस डिजिटल तरीके से अब ग्राहकों के कंपनी के साथ संपर्क करने के तरीके में भी बदलाव आएगा। इस अवसर पर मैं यह भी कहना चाहूंगा कि हम अपने ग्राहकों को और सशक्त बनाने के लिए कुछ नया करना जारी रखेंगे।‘चैटबोट स्पळव पर प्रति माह लगभग 3.5 लाख वॉयस चैट किए जाते हैं। ग्राहक लेन-देन का वर्गीकरण करने के लिए इनमें से किसी भी डिजिटल माध्यम का लाभ उठा सकते हैं।


 


Comments