विश्व हिंदू परिषद ने किया आग्रह : 5 अगस्त को घर में ही दिए जलाकर अपने उत्साह को प्रदर्शित करें 


रिपोर्ट : निर्णय तिवारी


छतरपुर : श्री राम जन्म भूमि मंदिर की भूमि पूजन के बारे में जानकारी देते हुए विश्व हिंदू परिषद के जिला मंत्री धीरज सेठ ने बताया कि 1984 में राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण आंदोलन में लाखों-करोड़ों राम भक्तों का प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष सहयोग प्राप्त हुआ है। सभी यह स्वाभाविक इच्छा होगी कि वे राम मंदिर भूमि पूजन के पवित्र ऐतिहासिक अवसर पर प्रत्यक्ष उपस्थित रहे, किंतु वर्तमान कोरोना के कारण उत्पन्न परिस्थिति में ऐसा करना असंभव है। 5 अगस्त को जहां एक और श्री राम की भव्य मंदिर निर्माण के लिए देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी पूज्य संतों का ट्रस्ट के पदाधिकारियों के साथ भूमि पूजन कर रहे होंगे, वहीं दूसरी ओर अपने संपूर्ण देश और अनुपम का विहंगम दृश्य को सजीव टकटकी लगाए अपने टेलीविजन पर देख रहा होगा। इस पूजन में देश भर की पवित्र नदियों का जल और धार्मिक स्थलों की पवित्र माटी के सहयोग से श्री राम जन्मभूमि का यह मंदिर सामाजिक समरसता राष्ट्रीय एकता व हिंदुत्व के भाव जागरण का एक पवित्र सचित्र देवी मान केंद्र होगा।


जिला मंत्री ने जानकारी देते हुए बताया कि विश्व हिंदू समाज की सैकड़ों वर्षो की अनवरत तपस्या के उपरांत राम भक्तों की आकांक्षाओं के पूर्ण होने की इस पावन बेला पर विश्व हिंदू परिषद द्वारा महाराजा छत्रसाल की पावन नगरी की मिट्टी को भी अयोध्या में श्री राम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण हेतु के केंद्रीय उपाध्यक्ष श्री राम जन्मभूमि तीर्थ समिति के महासचिव चंपत राय जी को सुपुर्द की गई है। जिला अध्यक्ष छत्रपाल सिंह जिला महामंत्री धीरज सेठ बजरंग दल जिला संयोजक सौरव खरे ने संयुक्त रूप से सभी राम भक्तों से निवेदन किया है कि आप सभी अयोध्या पहुंचने के लिए अति उत्साहित ना हो, सभी लोग अपने स्थान से दूरदर्शन पर समारोह का सजीव प्रसारण देखें और शाम को घर व आसपास के मंदिर में साज-सज्जा करके दिए अवश्य जलाएं।


Comments