Unnao : नही थम रहा भूमाफिया और लेखपाल की साठगाँठ का खेल


ज़िला अधिकारी का आदेश के बाद भी वृद्ध महिला लगा रही लेखपाल के चक्कर


रिपोर्ट : तनवीर खान 


उन्नाव, (0प्र0) : जहाँ एक ओर प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ भूमाफियाओं पर लगाम लगाने की हर सम्भव कोशिश कर रहे है वही भूमाफिया और कुछ लेखपाल आदेशो को ताक पर रख कर खुले आम अपनी मनमानी कर रहे है। यही नही वह अपने हुक्मरानों के आदेश को भी नही मानते। और  दबंग भूमाफियाओं से पैसे लेकर ज़मीनों पर कब्जा करवाते रहते है। ताज़ा मामला ग्राम नवाब खेड़ा मोहद्दीनपुर मौरावां तहसील पुरवा का है। जहाँ की निवासिनी सावित्री देवी पत्नी रामनाथ का है। सावित्री के नाम गाटा सं0 840ग खाता सं0365 रकबा 0.1070 हे0 भूमि स्थित ग्राम केदारनाथ खेड़ा परगना मौरावां तहसील  पुरवा दर्ज कागजात है। प्रार्थनी सावित्री की अनुपस्थिति में गांव के ही दबंग भूमाफिया बुद्धिलाल पुत्र हिरऊ व गंगाराम पुत्र कालीचरन निवासी ग्राम केदारनाथ खेड़ा व इनके पुत्रो ने अवैध कब्जा कर रखा है प्रार्थनी सावित्री और उसके पति रामनाथ ने जब वहाँ जाकर आपत्ति जताई  तो बुद्धिलाल, गंगाराम व इनके पुत्र राजकिशोर और मनोज प्रार्थनी सावित्री के पति और लड़के को  जान से मारने की धमकी देते है कि तुमको व तुम्हारे लड़के को जान से हाथ धोना पड़ेगा। परेशान होकर सावित्री ने अपनी ज़मीन  से अवैध कब्ज़ा हटवाने की शिकायत उपजिलाधिकारी पुरवा से की। जिसपर उपजिलाधिकारी  ने नपाई का आदेश संबंधित लेखपाल को दिया। लेकिन लेखपाल मनोजकुमार मौके पर नही पहुँचा और आनाकानी करता रहा। और नपाई के लिए सावित्री से रुपये की डिमांड करने लगा।


मनोज कुमार  लेखपाल ने सावित्री के पति से 10000 रुपये की डिमांड की।  जिसमें प्रार्थनी के पति ने मनोज कुमार लेखपाल को ₹2000 नगद देकर नपाई कराने के लिए कहा लेखपाल ने ₹2000 लेकर भी पूरा पैसा देने पर ही नपाई करने की बात कही। सावित्री के पति ने लेखपाल से नपाई होने के बाद बाकी रुपये देने की बात कही। लेकिन लेखपाल मनोज कुमार ने कोई भी कार्रवाई ना करके रुपए की डिमांड करता रहा तब जाकर सावित्री और उसके पति ने  जिलाधिकारी महोदय से मिलकर न्याय की गुहार लगाई। जिस पर जिलाधिकारी द्वारा तत्काल कार्रवाई करने का आदेश जारी किया वह लेखपाल को आदेश दिया की पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचकर प्रार्थनी सावित्री की जमीन पर कब्जा कराने का आदेश जारी किया परंतु लेखपाल मनोज कुमार ने जिलाधिकारी के आदेश की धज्जियां उड़ाते हुए कोई भी आदेश न मानते हुए पैसे की डिमांड बराबर करता रहा जिस कारण प्रार्थनी सावित्री दर-दर भटक रही है वह न्याय के लिए तरस रही है।


Comments