राशन वितरण के चावल को चुराकर एक्सपोर्ट करने वाले तीन गिरफ्तार, 110 टन चावल बरामद


रिपोर्ट : प्रमोद कुमार


ठाणे : राशन के तौर पर वितरण करने के लिए भेजे गए सरकारी चावल को चुराकर निर्यात करने की तैयारी में लगे 3 लोगों को पनवेल शहर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। सीनियर पीआई अजयकुमार लांडगे के मुताबिक उन्हें 31 जुलाई को सूचना मिली कि गोवा महामार्ग पर पनवेल शहर पुलिस स्टेशन की सीमा में राशन वितरण के लिए भेजा गया सरकारी चावल का बड़ा भंडार छिपाकर रखा गया है। इसके बाद तत्काल वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को सूचित किया गया।


वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों से मिले निर्देश के अनुसार लांडगे ने अपने पुलिस स्टेशन के दस्ते व राजस्व विभाग के अधिकारियों/कर्मचारियों के साथ गोवा महामार्ग पर पलस्पे के टेक केयर लॉजिस्टिक स्थित राशन गोदाम में छापा मारा। छापे के दौरान पुलिस ने कोविड-19 यानी कोरोना महामारी के दौरान गरीबों व बेसहारा लोगों में वितरण करने के लिए भेजा गया सरकारी चावल पाया। यह चावल महाराष्ट्र के सोलापुर जिले के बार्शी क्षेत्र से 4 कंटेनरों में भरकर यहां चोरी-छिपे अवैध रूप से लाया गया था। पुलिस ने मौके से 2220 बोरियों में भरे 110 टन चावल को जब्त कर लिया है। जब्त किए गए चावल का बाजार मूल्य करीब 33 लाख 8 हजार रुपये है। चावल के साथ पुलिस ने अंग्रेजी में छपे एसियन राइस, फूड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया, गवर्नमेंट ऑफ पंजाब, गवर्नमेंट ऑफ हरियाणा नाम की छपी बोरियों व 2 इलेक्ट्रॉनिक वजन कांटे को भी जब्त कर लिया है। इस दौरान राजस्व विभाग के संबंधित अधिकारी व कर्मचारी भी दो पंचों के साथ मौजूद थे। पुलिस के अनुसार सरकारी राशन के इस चावल को लाने वाले लोग विदेशों में अलग-अलग जगह निर्यात करने वाले थे। इस निर्यात से पहले इस चावल में मिलावट भी की जा रही थी। छापे के दौरान पुलिस ने पाया कि सरकारी राशन के चावल को तौल कर 50 किलो की बोरियों में भरा जा रहा था। छापा मारने वाले पुलिस दस्ते को गोदाम में इस तरह की कुल 2220 बोरियां चावल से भरी हुई मिलीं। निर्यात करने के लिए बोरियों पर अंग्रेजी में ‘Asian Rice’ का लोगो छापा गया था। गिरफ्तार आरोपियों में भीमाशंकर रंगनाथ खाडे, इकबाल काझी तथा लक्ष्मण चंद्र पटेल शामिल हैं। इनमें भीमाशंकर रंगनाथ खाडे के विरुद्ध इसके पहले भोईवाडा पुलिस स्टेशन मुंबई में आपराधिक मामला दर्ज हो चुका है।


Comments