पुणे शहर में मनपा के 200 पार्क बंद रहने लगभग डेढ़ करोड़ों रुपए का नुकसान


रिपोर्ट : प्रमोद कुमार


पुणे : पुणे शहर में कोरोना के प्रभाव में कोई खास सुधार होता हुआ नजर नहीं आ रहा है। कोरोना के हालात को देखते हुए पुणे मनपा ने शहर के सभी उद्यानों को बीते चार महीनों से बंद किया हुआ है। इसके चलते मनपा को करोड़ों रुपए का नुकसान हो रहा है। प्रशासन की मानें तो अब तक मनपा को लगभग डेढ़ करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। गर्मियों की छुट्टी और कोरोना की वजह से लगाए गए लॉकडाउन के कारण यह नुकसान उठाना पड़ रहा है।


पुणे शहर में मनपा के 200 से ज्यादा फार्म इसमें से कात्रज का भारत रत्न राजीव गांधी प्राणी संग्रहालय, पेशवा पार्क में एडवेंचर गेम्स, संभाजी का मतस्यालय, सहकार नगर का वंडर पार्क जैसे कई पार्क है जो बच्चों और बड़ों के आकर्षण का केंद्र रहते थे। हर साल यहां काफी भीड़ होती थी, विशेषकर बच्चों की भीड़ ज्यादा होती थी। कोरोना की वजह से सब कुछ खत्म से हो गया है। पुणे एक ऐसा शहर है। जिसे उसके गार्डन और पार्क के लिए भी जाना जाता है। यहां कई ऐतिहासिक धरोहर हैं। जहां पर लोग अक्सर घूमने के लिए जाते हैं। शहरों में बने पार्क और ऐतिहासिक धरोहरों से मनपा को अच्छी खासी कमाई होती है। महामारी कोरोना के चलते देशभर में लागू किए गए लॉकडाउन के कारण पूरे शहर में भी बीते चार महीनों से सभी पार्क बंद कर दिए गए हैं। मनपा के उद्यान विभाग को साल में तकरीबन सवा करोड़ की आमदनी होती थी। मनपा ने इस वर्ष कई पार्कों में प्रवेश शुल्क को दोगुना कर दिया था। इससे इस वर्ष मनपा की तिजोरी आयवृद्धि की उम्मीद थी। मगर कोरोना की वजह से लॉकडाउन लागू किया गया, जिसकी वजह से मनपा का पूरा आर्थिक अंकगणित बिगड़ गया है।


Comments