Mirzapur : गंगा कटान से प्रभावित घाटों का वर्षा के बाद सर्वे कराया जाएगा, मुख्य अभियंता, लेविल-1 ने दिया भरोसा


रिपोर्ट : सलिल पांडेय


मीरजापुर, (उ0प्र0) : जिले में सिंचाई विभाग की परियोजनाओं की समीक्षा और परीक्षण करने प्रयागराज जिले से आए मुख्य अभियन्ता, लेविल-1, इलाहाबाद जीवन राम यादव ने बाणसागर संगठन, कनहर परियोजना एवं सिंचाई सोन, वाराणसी के अंतर्गत आने वाले अधिकारियों की बैठक बाणसागर फील्ड हॉस्टल में ली तथा समस्त परियोजनाओं को समयबद्ध पूरा करने, गुणवत्ता के साथ करने एवं किसानों की समस्याओं के त्वरित निराकरण करने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा वर्षा ऋतु की समाप्ति के बाद सारे काम तेज गति से पूरे होने चाहिए। उन्होंने शासन की प्राथमिकताओं से समस्त अधीक्षण अभियंताओं एवं अधिशासी अभियंताओं को अवगत कराया।


जून महीने में पदोन्नत होकर प्रयागराज जिले में मुख्य अभियंता, लेविल-1, विन्ध्याचल मण्डल का पद भार ग्रहण करने के बाद श्री यादव का यह प्रथम दौरा था। उनके साथ मुख्य अभियंता, सोन, वाराणसी श्याम सुंदर अग्रवाल भी आए थे।


बैठक के बाद उनसे गांव-गरीब नेटवर्क के संयोजक सलिल पांडेय ने मुलाकात की तथा विंध्य क्षेत्र के नगरीय हिस्सों में गंगा से कट रहे घाटों की स्थिति से अवगत कराया, जिसे उन्होंने बड़ी गंभीरता से ली। उन्हें शास्त्रीपुल के पास जाह्नवी होटल, पक्काघाट के पास कोनिया घाट, तिवराने टोला में गंगाराम घाट, फ़तहाँ स्थित पुलिस अधीक्षक आवास के पास तथा कतिपय अन्य घाटों की कटान की जानकारी दी गई । इसी के साथ खुद सिंचाई दफ्तरों के गंगा तट की ओर कटान तथा DM बंगले की कटान का मुद्दा भी सामने आया जिस पर उन्होंने विभागीय अभियंताओं से इसे गंभीरता से लेने पर जोर दिया।



- ज्ञानपुर पम्प कैनाल से कोन (चील्ह) ब्लाक की भी सिंचाई हो


मुख्य अभियन्ता श्री यादव के समक्ष मांग रखी गई कि भदोही जिले में स्थित ज्ञानपुर पम्प कैनाल की नहरों से कोन ब्लाक को भी पानी मिले तो कृषकों को लाभ होगा। श्री यादव ने उक्त खंड में स्थायी रूप से अधिशासी अभियन्ता की नियुक्ति के बाद सर्वे का भरोसा दिया।


- 15 अक्टूबर के बाद सभी घाटों के वे खुद देखेंगे


मुख्य अभियंता श्री यादव ने कहा कि वर्षा की समाप्ति होते 15 अक्टूबर के बाद वे खुद पुनः आएंगे तथा स्वयं इन घाटों की कटान का स्थलीय निरीक्षण भी करेंगे तथा ज्यादा कटान वाले घाटों का प्रोजेक्ट बनवाएंगे।


- विंध्यक्षेत्र की महिमा अवर्णनीय


 इस अवसर पर जब उन्हें आध्यात्मिक पत्रिका विंध्यप्रसाद तथा मां विंध्यवासिनी धाम की कजली एवं  लोकगीतों से संबंधित लोकपर्व पुस्तक भेंट की गई तब उन्होंने कहा कि जब वे सहायक अभियन्ता के पद पर उत्तर प्रदेश सिंचाई विभाग में कार्यरत थे तब यहां आ चुके हैं। विन्ध्यधाम की महिमा से वे अभिभूत रहते हैं। श्री यादव ने कलाकृति की दृष्टि से पक्कघाट को अद्भुत माना।


इस अवसर पर मुख्य अभियन्ता, सोन, वाराणसी के स्टाफ आफिसर विजयकुमार, अधीक्षण अभियन्ता यस के सिंह, एस एन पांडेय, बेलन बांध प्रखंड के अधिशासी अभियन्ता सुरेश कुमार यादव, सिरसी बांध प्रखंड के अधिशासी अभियंता पंकजपाणि शुक्ल, मिर्जापुर नहर प्रखंड के अधिशासी अभियन्ता वैभव सिंह सहित अन्य अभियन्ता भी थे।


Comments