Mirzapur : अनुप्रिया पटेल का विशेष प्रयास रंग लाया, पर्यटन नगरी के तौर पर विकसित किया जाएगा जनपद


पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं अपना दल (एस) की राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमती पटेल ने केंद्रीय पर्यटन मंत्री प्रह्लाद सिंह पटेल व उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के प्रति आभार व्यक्त किया


जनपद को टूरिस्ट हेरिटेज के तौर पर विकसित करने के लिए 6 साल से लगातार प्रयासरत थीं अनुप्रिया पटेल


रिपोर्ट : बृजेश गोंड


मिर्जापुर, (उ०प्र०) : पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं अपना दल (एस) की राष्ट्रीय अध्यक्ष सांसद अनुप्रिया पटेल का विशेष प्रयास रंग लाया। मीरजापुर और चुनार सहित प्रदेश के अन्य स्थलों को पर्यटन नगरी के तौर पर विकसित करने के लिए केंद्रीय पर्यटन मंत्री प्रह्लाद पटेल ने स्वदेश दर्शन के तहत 400 करोड़ रुपए की राशि स्वीकृत की है। श्रीमती पटेल ने इसके लिए केंद्रीय पर्यटन मंत्री प्रह्लाद सिंह पटेल एवं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के प्रति आभार व्यक्त किया है। 


बता दें कि स्वदेश योजना के तहत जनपद को पर्यटन के क्षेत्र में विकसित करने एवं जनपद को आर्थिक रूप से संपन्न बनाने एवं जनपद के युवाओं को रोजगार देने के लिए सांसद अनुप्रिया पटेल अपने पहले कार्यकाल से ही सक्रिय हैं। श्रीमती पटेल ने इस बाबत सबसे पहले 24 जुलाई 2014 को तत्कालीन केंद्रीय पर्यटन मंत्री श्रीपद येशो नायक को पत्र लिखकर जनपद को टूरिस्ट हेरिटेज के तौर पर विकसित करने के लिए विशेष आग्रह किया था। श्रीमती पटेल ने पत्र के माध्यम से केंद्रीय मंत्री को सूचित किया था, “उत्तर प्रदेश का मिर्जापुर जनपद मां विंध्यवासिनी मंदिर के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध है। जनपद में गंगा नदी पर निर्मित ऐतिहासिक घाट पर्यटकों एवं श्रद्धालुओं को आकर्षित करते हैं। यह जनपद ऐतिहासिक एवं प्राकृतिक धरोहरों के लिए भी जाना जाता है। यहां भवानीपुर, अकोढ़ी, सीता कुंड, चुनार किला, कालीखोह मंदिर, अष्टभुजा मंदिर, मेजा धाम, टांडा झरना, सिरसी धाम, विंढम फाल्स, अगोरी किला, लाल भैरव मंदिर, सक्तेशगढ़ किला, विजयगढ़ किला, लोरिक चट्टान, सिद्धानाथ की दरी, लखनिया गुफा जैसी ऐतिहासिक धरोहरें स्थित हैं। इन पर्यटन स्थलों के विकास से जनपद को आर्थिक लाभ भी होगा और यहां के युवाओं को रोजगार भी मिलेगा। अत: जनपद को ‘टूरिस्ट सर्किट’ की सूची में शामिल करने की मंजूरी देने कृपा करें।”


श्रीमती पटेल ने 4 मार्च 2015 को इसी मामले में एक बार पुन: तत्कालीन केंद्रीय पर्यटन मंत्री डॉ.महेश शर्मा को पत्र लिखकर जनपद को ‘टूरिस्ट सर्किट’ के तौर पर विकसित करने का अनुरोध किया। इस बाबत श्रीमती पटेल ने 11 सितंबर 2015 को डॉ.शर्मा को पुन: पत्र लिखकर अनुरोध किया। इस मामले में 14 अक्टूबर 2015 को डॉ.महेश शर्मा ने पत्र के माध्यम से इस मामले पर विचार करने का आश्वासन दिया। इसके अलावा 13 अक्टूबर को डॉ.महेश शर्मा ने पत्र के माध्यम से सूचित किया कि चुनार किला को विकसित करने से संबंधित आपके प्रस्ताव को उत्तर प्रदेश सरकार के पर्यटन विभाग को भेज दिया गया है। 



8 जनवरी 2016 को डॉ.महेश शर्मा ने पत्र के माध्यम से सूचित किया कि जनपद को टूरिस्ट सर्किट के तौर पर विकसित करने से संबंधित आपके पत्र को उत्तर प्रदेश सरकार को आवश्यक कार्यवाही हेतु भेज दिया गया है। दिसंबर 2016 में केंद्रीय मंत्री डॉ.महेश शर्मा ने चुनार किला का दौरा किया और चुनार किला को विकसित करने की घोषणा की। तत्पश्चात 2017 के शुरू में श्रीमती पटेल ने केंद्रीय मंत्री डॉ.महेश को रिमाइंडर लेटर के जरिए चुनार किला में साउंड और लाइट की व्यवस्था के लिए अनुरोध किया। श्रीमती पटेल ने 10 जुलाई 2018 को एक बार फिर तत्कालीन केंद्रीय पर्यटन मंत्री श्री केजे अल्फांस को पत्र लिखकर उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा मिर्जापुर स्थित चुनार का किला एवं अन्य ऐतिहासिक स्थलों के विकास से संबंधित प्रस्ताव को मंजूरी देने की अपील की।


बता दें कि माननीय पूर्व केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल के आग्रह पर 2 जून 2018 को तत्कालीन पर्यटन महानिदेशक अवनीश अवस्थी ने केंद्रीय पर्यटन मंत्रालय के संयुक्त सचिव को जनपद स्थित चुनार किला सहित अन्य पर्यटन स्थलों के विकास से संबंधित डीपीआर भेजा। हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में एनडीए सरकार 2 के गठन के बाद अनुप्रिया पटेल ने 29 जून 2019 को वर्तमान केंद्रीय पर्यटन मंत्री प्रह्लाद सिंह पटेल को पत्र लिखकर’ इंको टूरिस्ट सर्किट’ परियोजना को अतिशीघ्र मंजूरी दिलाने की अपील की। 


आज मिर्ज़ापुर और चुनार को पर्यटन नगरी के तौर पर विकसित करने की परियोजना को मंजूरी देने पर अनुप्रिया पटेल प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहती हैं कि इस परियोजना को मंजूरी मिलने से जनपदवासियों का भविष्य काफी हद तक संवर जाएगा। जनपद के ऐतिहासिक धरोहरों के विकास से पर्यटन उद्योग को बढ़ावा मिलेगा और युवाओं को रोजगार के लिए अन्य जनपदों की ओर रूख नहीं करना पड़ेगा।


Comments