Mirzapur : आतंकवादियों से लोहा लेते हुए छानबे क्षेत्र का एक जवान शहीद


एकलौते पुत्र के शहीद होने से बुझ गया घर का चिराग   


रिपोर्ट : टी0सी0विश्वकर्मा


मीरजापुर, (उ0प्र0) : छानवें क्षेत्र के गौरा गांव निवासी संजय सिंह का एकलौता पुत्र रवि सिंह 25 कश्मीर मे बारामुला के पटन सेक्टर मे आतंकियों से लोहा लेते हुये शहीद हो गये। बताया जाता है कि 17 अगस्त को शाम पांच बजे शहीद रवि का दोस्त मध्यप्रदेश के सीधी जिला निवासी आकाश ने शहीद रवि के पिता के मोबाइल पर फोन कर बताया कि उग्रवादियों से मुठभेड़ मे रवि को गोली लगी है। गोली लगने की सूचना पर परिजन जब पुष्टि किये तो रात मे लगभग एक बजे उसी कम्पनी के कर्नल ने शहीद रवि सिह के पिता सजय सिंह को रवि सिंह के शहीद होने कि जानकारी दी। एकलौते बेटे के शहीद होने कि सूचना पर एक ओर जहा पिता के पैरो के तले जमीन खिसक गयी, वही परिवार मे कोहराम मच गया।


शहीद रवि सिंह 2013 मे सेना के 13 ग्रेनेडियर 29 राष्टीय रायफल मे जबलपुर से भर्ती हुये थे। यह बचपन से ही काफी होनहार थे। शहीद रवि 13 फरवरी को जहा चचेरे भाई आदर्श सिंह की शादी में अन्तिम वार घर आया था, वही एक माह घर पर बीताने के बाद 13 मार्च को घर से चला गया था। बारामुला के पटन पोस्ट पर चौबीस माह से तैनात रवि सिंह देश की सुरक्षा करते हुये शहीद हो गये। परिजनों ने बताया कि सोमवार को दिन मे 11:30 बजे शहीद रवि सिंह ने माता रेखा सिंह व पत्नी प्रियंका सिंह से फोन पर बात की थी। सोमवार को दिन मे एक बजे जब परिजनों ने फिर फोन किया तो शहीद रवि सिंह ने बताया कि फोन रखिये हम आपरेशन मे जा रहे हैं, लौटकर आयेगे 8 बजे तब बात करेगे। शहीद रवि सिंह अपने पिता सजय सिंह के जहा एकलौते पुत्र थे, वही दो बहनों जिसमे बडी बहन रेनू सिंह जिसकी शादी हो चुकी है छोटी बहन कृति सिंह अभी अबिवाहित है पिता सजय सिंह जहा तीन वर्ष से गले के कैंसर से पीड़ित है वही दादा रणजीत सिंह कोटहा के पैर टूटने की बजह से प्लास्टर बधा है। परिवार मे कमाने व घर के खर्च की जिम्मेदारी जहा शहीद रवि सिंह के ऊपर थी वही हसते हुये घर का एकलौता चिराग देश की सुरक्षा मे शहीद हो गया। शहीद रवि सिंह की शादी 22 जून 2018 को मीरजापुर एलआईयू मे तैनात दरोगा कमलेश सिह की पुत्री रेखा सिंह के साथ हुई थी। शहीद रवि को अभी तक कोई सन्तान नही है।


Comments