Mirzapur : आंगनबाड़ी केन्द्रों से 31 अगस्त तक किया जायेगा पोषाहार का डोर-टू-डोर वितरण, 1 लाख 84 हजार से अधिक लाभार्थी होंगे लाभान्वित


जनपद के 2668 आंगनबाड़ी केन्द्रों पर गतिविधियां पुनः सुचारू रूप से संचालित


रिपोर्ट : टी0सी0विश्वकर्मा


मीरजापुर, (उ0प्र0) : वैश्विक महामारी कोरोना के चलते आंगनबाड़ी केन्द्रों से जुड़ी गतिविधियां एक बार फिर से सुचारू रूप से संचालित की जाने लगी है। इसी के तहत जनपद के समस्त आंगनबाड़ी केन्द्रों के लाभार्थियों को डोर-टू-डोर पोषाहार का वितरण 31 अगस्त तक किया जायेगा। इस दौरान आगनबाडी कार्यकर्ता घर.घर जाकर निर्धारित रोस्टर के मुताबिक लाभार्थियों को पोषाहार का वितरण करेंगी। पोषाहार वितरण का मुख्य उद्देश्य लाभार्थियों के प्रतिरोधक क्षमता को और सशक्त बनाना है ।


जिला कार्यक्रम अधिकारी प्रमोद कुमार सिंह ने बताया कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ता जिले में बच्चों, गर्भवती तथा धात्री महिलाओं को घर.घर जाकर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए पोषाहार वितरण करेंगी। वितरण का कार्य ग्राम प्रधान एवं सभासद के उपस्थिति में होगा । पोषाहार वितरण का पर्यवेक्षण क्षेत्रीय मुख्य सेविका, बाल विकास परियोजना अधिकारी द्वारा किया जाएगा। उन्होंने बताया कि जिले मे कुल 2668 आंगनबाड़ी केंद्र हैं उक्त सभी केंद्रों पर 1 लाख 84 हजार 71 लाभार्थियों को पोषाहार का वितरण आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा डोर टू डोर जाकर किया जाएगा।


बाल विकास परियोजना अधिकारी विमलेश ने बताया कि जनपद के 14 परियोजनाओं में 31 अगस्त 2020 तक आंगनबाड़ी केंद्रों पर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा आंगनबाड़ी केंद्रों के लाभार्थियों को घर घर जाकर पुष्टाहार का वितरण किया जाएगा। उन्होंने बताया कि पोषाहार वितरण के दौरान पूरी पारदर्शिता रखेंगी और लाभार्थियों या उनके परिजनों से पोषाहार प्राप्त होने का हस्ताक्षर भी कराया जायेगा। कोविड.19 से फैले संक्रमण के चलते पोषाहार वितरण के समय सुरक्षा एवं सजगता जरूरी है।ऐसे में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता स्वयं मास्क लगाकर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए पोषाहार का वितरण करेंगी तथा लाभार्थियों एवं उनके परिजनों को कोरोनावायरस से बचाव के तरीके भी बतायेंगी। इसके अलावा आरोग्य सेतु एप डाउनलोड करवाएं और इससे होने वाले लाभों के बारे में उन्हें जानकारी भी प्रदान करेंगी ।इसके अतिरिक्त लाभार्थियों को पोषाहार से बनने वाले व्यंजनों के बारे में बताने के साथ ही यह भी बतायेंगी कि पुष्टाहार बच्चोंए गर्भवती व धात्री माताओं के स्वास्थ्य एवं रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में भी सहायक है।


 


Comments