मिलाग्रो ने 3 नए फ्लोर रोबोट लॉन्च किए


मुंबई : भारत के नंबर 1 सर्विस रोबोट ब्रांड मिलाग्रो ने तीन नए रोबोट - मिलाग्रो आईमैप मैक्स, मिलाग्रो आईमैप 10.0 और मिलाग्रो सीगल को लॉन्च करने की घोषणा की है। यह सभी मिलाग्रो के अपने सॉफ्टवेयर ‘आरटी2आर’ - रियल टाइम टैरेन रिकग्निशन टेक्नोलॉजी- का उपयोग करते हैं। इनका इस्तेमाल कमर्शियल और डोमेस्टिक दोनों उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है। इन रोबोट्स को भारतीय परिस्थितियों के स्पेस मैनेजमेंट पैटर्न को ध्यान में रखते हुए 3 साल के शोध और विकास के बाद लॉन्च किया गया है। ये रोबोट 6-7 अगस्त को अमेज़न प्राइम डे सेल में लॉन्च किए जाएंगे।


मिलग्रो आईमैप मैक्स- दुनिया का पहला फ्लोर वेट मॉपिंग और वैक्यूमिंग रोबोट है जो 40N के दबाव से अपने मॉप्स को सेल्फ-क्लीन कर सकता है। यह पूरी तरह से स्वतंत्र, सेल्फ-क्लीनिंग रोबोटिक वैक्यूम क्लीनर है जिसमें पेटेंट किया हुआ वेट मॉपिंग मैकेनिज्म है जो नीचे आकर एआई-एल्गोरिदम पर आधारित दो हाइड्रोलिक शाफ्ट की मदद से फर्श पर 10N का दबाव डालता है। फर्श पर यह अतिरिक्त दबाव उस पर जमा जिद्दी गंदगी और दाग को साफ करता है जैसे कि कॉफी और सॉस, आदि।



मिलाग्रो आईमैप 10.0 इलेक्ट्रॉनिक वाटर टैंक और 3 घंटे की बैटरी लाइफ b 2700 पीए के सबसे पावरफुल सक्शन के साथ पूरी तरह से स्वतंत्र सेल्फ-नेविगेटिंग रोबोट है।  यह हाइली स्पेसिफाइड है और 8 मिमी तक की सटीकता के साथ 16एम, 2160/सेकंड तक स्कैन कर रियल टाइम में मैपिंग कर सकता है। 18 सेंसर के साथ यह रोबोट यूजर के मोबाइल स्क्रीन पर रियल टाइम में अपने रास्ते में आई गंदगी को साफ कर और स्वच्छ की जगह को दिखाने का प्लान बना सकता है। तेज रिस्पॉन्स टाइम की सुविधा के लिए इसमें एक ऑक्टा-कोर सीपीयू है। आईमैप 10.0 के इलेक्ट्रॉनिक वॉटर टैंक में बदलाव किए गए हैं ताकि वह आईसीएमआर की सिफारिश के अनुसार सोडियम हापोक्लोराइट 1% सॉल्युशन को साथ लेकर कोविड-19 वायरस को नष्ट कर सके।



मिलाग्रो सीगल सिर्फ 7.2 सेमी की हाईट के साथ यह गायरो मैपिंग फ्लोर क्लीनिंग रोबोट आता है। यह ओरिएंटेशन निर्धारित करने के लिए 'गायरो मैपिंग' तकनीक का उपयोग करता है। मिलाग्रो सीगल रियल टाइम में सफाई करते समय प्रगति और मैपिंग को यूजर के डिवाइस पर प्रदर्शित करेगा। रोबोट प्रत्येक क्षेत्र में रियल टाइम में पाथ को प्लान करता है ताकि समय कम लग सके। अपने एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-माइक्रोबियल और एंटी-वायरल (0.5 माइक्रोन) गुणों के साथ मिलाग्रो सीगल अस्पतालों और इसी तरह के वातावरण में संक्रमण के प्रसार को कम करने में मदद करता है।


मिलाग्रो रोबोट्स के संस्थापक चेयरमैन राजीव करवाल ने कहा, “ये 3 'व्हाइट रोबो-नाइट्स' को विशेष रूप से कोरोनावायरस महामारी के कारण घरों, दफ्तरों, अस्पतालों, होटलों आदि में सामने आई स्थिति को ध्यान में रखते हुए लॉन्च किए गए हैं। हाइजिन और डिसइंफेक्शन की आवश्यकता आज पहले से कहीं अधिक है। रियल टाइम टैरेन रिकग्निशन टेक्नोलॉजी फर्श पर प्रेशर मॉपिंग के साथ और इसके बाद दुनिया में पहली बार मॉप्स की सेल्फ-क्लीनिंग और हमें यकीन है कि इन सबका भारतीय बाजार को बहुत फायदा होगा।


Comments