कोरोना योद्धा बनकर दहिसर विधानसभा क्षेत्र की विधायिका मनीषा चौधरी ने बचाई नागरिकों की जिंदगी


पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के हाथों हुआ मनीषा चौधरी की सेवाव्रती किताब का लोकार्पण


मुंबई : कोरोना पाश्वरभूमि में कोरोना योद्धा बनकर, बचाई दहिसर विधानसभा क्षेत्र की विधायिका मनीषा चौधरी ने नागरिकों की जिंदगी बचने का श्रेय जाता है। जी हां यह सुनने में आश्चर्य नहीं होगा पर यह जमीनी हक़ीक़त में मुंबई के कोरोना योद्धाओं की लिस्ट में अब एक और नाम जुड़ चुका है, और वो है उत्तर-पश्चिम मुंबई में आने वाले दहिसर विधानसभा क्षेत्र की भाजपा विधायिका ने मानों इतिहास रच दिया हो। कोरोना लॉक डाउन के पहले अपनी पति की मौत से सदमे में जा चुकी मनीषा चौधरी स्वयंम को शारीरिक, मानसिक तौर पर संभालते हुए, विधानसभा क्षेत्र की जनता जिसे अपना दूसरा परिवार मानने वाली भाजपा विधायिका ने अपने क्षेत्र की तीन लाख आबादी वाली जनता को कोरोना महामारी से बचाने के लिये कमर कसी थी। जिसे अपने दृढ़ निश्चय संकल्प के कारण अपने दहिसर क्षेत्र की जनता को एक सेवावृत्ति बनकर बचाने का कार्य किया। परिणाम स्वरूप मनीषा ताई के इस साहसिक कार्य से अभिभूत होकर महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने एक कार्यक्रम में बीजेपी दहिसर विधायिका का बड़े समाराहों में उत्तर मुंबई सांसद सहित अन्य गणमान्य जनों के बीच मनीषा चौधरी का सम्मान कर उनकी किताब कोरोना महामारी के ऊपर सेवावृत्ति का विमोचन किया।



जुलाई महीने में जिस रफ्तार से उत्तर मुंबई के बोरीवली, कांदिवली, दहिसर के इलाके में कोरोना महामारी तेजी से फैली थी उसी तेजी से अब वहां कोरोना का संक्रमण धीमा हो गया है। उसका मुख्य कारण धारावी पैटर्न बताया जाता है। बता दें कि मनपा आयुक्त इक़बाल सिंह चहल ने कोरोना महामारी से ग्रस्त मुंबई के विभिन्न  इलाकों में धारावी, गोवंडी पैटर्न लागू कर के नागरिकों को मौत के मुहं से बाहर निकाला है। सर्वप्रथम मुंबई को चार जोन में बांट देने के बाद उत्तर पश्चिम क्षेत्र के लिये थाना से आये मनपा आयुक्त संजीव जैसवाल के हाथों में कमान सौंपी। जिसके तहत दहिसर विधानसभा क्षेत्र के साढ़े नौ वार्डो में सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्र का चुनाव कर स्थानीय कम्युनिटी लीडरों मनपा अधिकारियों, पुलिस कर्मियों, डॉक्टरों, जनप्रतिनिधियों को आगे कर प्रशासन ने कोरोना योद्धाओं को नागरिकों को विश्वास में लेकर मोहल्ला क्लीनिकों, दावा खानों के डॉक्टरों को कोरोना संक्रमितों मरीजों को इलाज के लिये पीपीआई किट का बड़े पैमाने पर उपलब्ध करके वितरण किया गया।



डॉक्टर आपके द्वार कार्यक्रम को मिली सफलता। दहिसर क्षेत्र के हर एक वार्ड से फीवर कैम्प, कोविड टेस्टिंग बिना झिझक के नागरिक आगे आने लगे। कैसे बचाई जनप्रतिनिधियों ने दहिसर की जनता की कोरोना से जान -इसके अलावा इस मुहिम में जनप्रतिनिधियों की  भूमिका भी सराहनीय रही। इस दौरान उत्तर मुंबई के सांसद गोपाल शेट्टी ने मौके की नजाकत को भांपते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य टीम मंगाई। बोरीवली से लेकर मलाड निर्वाचन क्षेत्र में अधिक से अधिक कोरनटाईंन सेंटरों को उपलब्ध करवाया। वहीं दहिसर विधानसभा क्षेत्र की बीजेपी विधायिका मनीषा चौधरी ने भी संपूर्ण क्षेत्र को सैनिटाइजेशन, मास्क, सैनिटाइजबोटल का वितरण करवाया। अधिक से अधिक खुली जगहों को कोरनटाईन सेंटरों में तब्दील किया गया। स्पोर्ट्स क्लब, कॉन्वोकेशन सेंटर, सोसाइटी के बैंक्वेट हॉल को सैनिटाइज कर के आधुनिक स्वस्थ सुविधाओं से सुसज्जित करवाया।दहिसर विधानसभा क्षेत्र की बीजेपी विधायिका मनीषा चौधरी के रेड जोन में चल रहे दहिसर विधानसभा को कम्युनिटी लीडरों, मनपा अधिकारियों, डॉक्टरों पुलिस कर्मियों समेत पार्टी कार्यकर्ताओं की टीम का नेतृत्व करके सुनियोजित सामूहिक योगदान के कारण कोरोना पर जीत हासिल करने में सफलता प्राप्त हुई।



दहिसर की 3 लाख के करीब जनता को दोनों समय 5 हजार नागरिकों के लिये दहिसर विधानसभा क्षेत्र पांच कम्युनिटी सेंटरों में भोजन की व्यवस्था किचडी की तौर पर व्यवस्था करवाई। राशन किट का किया वितरण कराया गया, डॉक्टर आपके द्वार कार्यक्रम को मनीषा चौधरी ने अपने विधानसभा क्षेत्र की जनता के साथ उनको सहयोग देने वाले कोरोना योद्धाओ के स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान रखा जिसमे मनपा कर्मियों से लेकर डॉक्टरों, पुलिस कर्मियों,संबंधित विभागों में कार्यरत महिलाओं कर्मियों को नैपकिन पैड से लेकर उनके घरों तक पिक उप ड्राप आप सुविधा गाड़ियों की उपलब्ध करवाई थी जरूरत मंदो को। बसों गांवों जालने वाले परप्रांतीययो को बड़ी संख्या में भोजन सामग्री, रास्ते मे पानी की बोटल,पैरों में पहनने के लिये चप्पलों की व्यवस्था किया था। उसके बाद बसों में बैठाकर गांवों भेजने का कार्य किया। यही वजह है कि आज एक तरह से दहिसर इलाका कोरोना से मुक्त होने की कगार पर है।


Comments