कोरोना संदेह में डाॅक्टरो की मनमानी से महिला की मौत


छतरपुर : जिला अस्पताल में डाॅक्टरो की मनमानी थमने का नाम नही ले रही। कई बार इनपर भृष्टाचार के भी आरोप लग चुके है तो कई मरीजो से इनके द्वारा जो रवैया किया जाता है। इसके भी कई मामले सामने आ चुके है। लेकिन आज जहाॅ देश में इतनी भयंकर महामारी से दो चार हो रहा ऐसे समय में इनके द्वारा मरीजो से जो आचरण किया जाता है। उसका सीधा नमूना छतरपुर जिला अस्पताल में देखने को मिला। जहाॅ कोरोना महामारी के संदेह में डाॅक्टरों और नर्सों ने प्रसूता महिला का सही इलाज नहीं किया, जिसके कारण शुक्रवार को प्रसूता की मौत हो गई है।


जानकारी मे पता चला कि शहर के मातवाना मोहल्ला में रहने वाले महेश अहिरवार की पत्नी पूजा अहिरवार को प्रसव पीडा होने पर मंगलवार को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहाॅ इलाज दौरान डाॅक्टर ने महिला को खून की कमी बताई तो उसके देवर राजेश अहिरवार ने एक यूनिट खून दिया। राजेश ने बताया कि ब्लड चढ़ने के बाद भाभी की हालत तेजी से बिगड़ी और उसे खांसी आने लगी। तब डाॅक्टरो द्वारा महिला में कोरोना की आशंका में महिला को अलग वार्ड में शिफ्ट कर दिया था। महिला की जाॅच कर रिपोर्ट टेस्ट के भेज दी। परिवार के लोगो द्वारा कई बार इसकी बात डाॅक्टरो से की गई पर किसी ने ध्यान नही दिया। कोरोना के संदेह में डाॅक्टरो द्वारा महिला के इलाज में लापरवाही बरती गई व समय पर सही इलाज न होने से महिला की मौत हो गई है। हालांकि बाद में पूजा की कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आई, इसके बावजूद सही तरीके से इलाज न मिलने से शुक्रवार को दोपहर 12 बजे 9 माह के गर्भस्थ शिशु सहित प्रसूता की मौत हो गई है। मृतका के पति महेश अहिरवार ने डॉक्टर्स पर लापरवाही के आरोप लगाते न्याय की मांग की है। सीएमएचओ डॉ. विजय पथौरिया का कहना है कि इस मामले की जांच कराई जाएगी, जो भी दोषी होगा उन पर कार्रवई की जाएगी।


Comments